Breaking News

लोक आस्था के महापर्व छठ की शुरुआत के साथ लोकतंत्र के महापर्व का पहला चरण संपन्न


मांगोबंदर | शुभम मिश्र】:-
गुरूवार को पहले चरण का मतदान बिहार के चार लोकसभा सीटों पर हुआ। जिसमें कुल 53 प्रतिशत मतदाताओं ने मतदान किया। सुबह 7 बजे से संध्या 4 बजे तक तो कहीं संध्या 5 बजे तक वोट डाले गए। जमुई लोकसभा क्षेत्र की बात करें तो यहां 54 प्रतिशत मतदाताओं ने अपना मत प्रदान किया।


 प्रशासन द्वारा चुनाव कराने के लिए व्यापक इंतजार देखने को मिले।मतदाताओं में वोट देने के प्रति खासा उत्साह देखने को मिला। जिसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि बूथों पर मतदाताओं की भीड़ सुबह से शाम तक देखने को मिली। आलम यह था कि युवाओं के साथ-साथ  उम्र की सदी पार करने वालों में कुछ बुजुर्ग, बीमार महिलाओं एवं पुरुषों ने भी मतदान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। जिसका जीता जागता उदाहरण खैरा प्रखंडान्तर्गत मांगोबंदर के बूथ संख्या 257 पर एक बुजुर्ग,असहाय महिला को उनके परिवार वाले ट्राई साइकिल पर लेकर वोट डालने हेतु लाये थे को देखा जा सकता था। इस लोकतंत्र के महापर्व में देश प्रेम के साथ-साथ धार्मिक आस्था का अद्भुत संयोग देखने को मिला। इसी दिन लोक आस्था का महापर्व छठ का पहला अर्घ्य भी दिया गया। गर्मी अपना रूप दिखाने लगी थी। बावजूद सुबह से ही छठ व्रतियां मतदान केंद्रों पर पहुंचकर देश के नागरिक होने और राष्ट्रहित के प्रति अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने में लगी दिखीं और मतदान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। वहीं बूथ संख्या 257 मध्य विद्यालय मांगोबंदर में ई.वी.एम मशीन में खराबी आ जाने के कारण मतदान प्रारम्भ होने में विलंब हुआ।


बताते चलें कि इस बार के लोकसभा चुनाव में चुनाव आयोग द्वारा स्वच्छ व निष्पक्ष चुनाव कराने हेत वी.वी.पैट के माध्यम से चुनाव कराया जा रहा है। जिले के विभिन्न स्थानों से छिट-पुट घटनाओं की भी सूचना मिलती रही थी। वहीं जिले के तरी दाबिल के बूथ संख्या 232 पर लोगों ने मतदान का बहिष्कार किया। वहां लगभग 1300 लोगों ने वोट बहिष्कार किया। इस बाबत ग्रामीणों से पूछे जाने पर पता चला कि दशकों से यहां सड़क की स्थिति जर्जर है। पूर्व व निवर्तमान सांसद को इसकी जानकारी देते हुए सड़क निर्माण की मांग की गई लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। इसलिए हमलोगों ने मतदान बहिष्कार किया है। हालांकि प्रशासनिक अधिकारियों ने भी ग्रामीणों को समझाने का भरसक प्रयास किया लेकिन लोगों ने " रोड  नहीं तो वोट नहीं " का नारा लगाते हुए मतदान का बहिष्कार कर दिया।
विदित हो कि 2009 एवं 2014 के लोकसभा में मतदान का प्रतिशत जमुई में क्रमशः 38.13 व 52 प्रतिशत था जो इस बार के लोकसभा चुनाव के बनस्पत कम था। बतातें चलें कि इस बार जमुई से लोकसभा चुनाव में एन.डी.ए प्रत्याशी निवर्तमान सांसद चिराग पासवान एवं महागठबंधन प्रत्याशी पूर्व सांसद भूदेव चौधरी के बीच कांटे की टक्कर है। बता दें कि आगामी लोकसभा चुनाव का दूसरा चरण 18 अप्रैल को होगा।  वहीं 17 वीं लोकसभा चुनाव चुनाव की मतगणना 23 मई को होने वाली है ।