Breaking News

पटना : विश्व फिजियोथेरपी दिवस पर IGIMS में सेमिनार आयोजित


[पटना]    ~अनूप नारायण
मनिसिक रोगों में भी योग और फिजियोथेरपी से काफी लाभ होता है। सिज़ोफ्रेनिया, मूड डिसऑर्डर, तनाव , डिप्रेशन आदि बीमारियों में नियमित योग करने से दवाएं छूट सकती हैं या कम हो सकती हैं। ये कहना है  IGIMS के वरिष्ठम  फिजियोथेरेपिस्ट और योग इंचार्ज डॉ रत्नेश चौधरी का। वे मनिसिक बीमारियो में योग और फिजियोथेरपी के रोल पर हुए सेमिनार में आज बोल रहे थे। कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य अतिथि और विधायक श्री संजीव चौरसिया ने किया ।कार्यक्रम में IGIMS के मानसिक रोग विभाग के अध्यक्ष डॉ राजेश कुमार ने कहा कि तनाव ,डिप्रेसन, घबराहट आदि के लिये व्यायाम,योग आदि करना बेहद फायदेमंद रहता है।कार्यक्रम में निदेशक डॉ आर एन विश्वास, डॉ संतोष कुमार ,डीन डॉ एस के शाही, डॉ हरिहर दीक्षित,प्रिंसिपल डॉ रंजीत गुहा ,डॉ विनीत ठाकुर ,डॉ कल्पना सहित सैकड़ों छात्रों, नर्स आदि ने भाग लिया।

उल्लेखनीय है कि WHO के अनुसार 2020 तक मानसिक तनाव ,डिप्रेशन जैसी बीमारियां विश्व मे सबसे ज्यादा हो जाएंगी।इनसे बचाव ही बेहतर उपाय है। कई क्लीनिकल ट्रायल और रिसर्च से ये देखा गया है कि योग और व्यायाम इनके रोकथाम में सही साबित हुए हैं। भारत सरकार ने अभी हाल में आरंभ हुए भारत आयुष्मान योजना में 15000 वेलनेस सेन्टर खोलने की बात कही है जिसमे योग और वयायाम भी शामिल होंगे।