Breaking News

जमुई : बीएमपी-11 में मेडिकल फिटनेस के लिए पैसा लेते दलाल धराया, पुलिस को सुपुर्द

    [जमुई | इनपुट सहयोगी] :-

मेडिकल फिटनेस को लेकर बीएमपी-11की बहाली में एक बिचौलिये को अभ्यर्थी से घुस लेते हुए  कमाण्डेन्ट मो. सफीउल हक़ के द्वारा पकड़ कर पुलिस के हवाले किया गया। इस गिरफ्तार व्यक्ति के पास से 57,000/-  नकद सहित 58 अभ्यार्थीयों की सूची भी बरामद की गयी।
इस संबंध में प्रेसवार्ता के दौरान कमाण्डेन्ट मो.शफीउल हक़ ने पत्रकारों से कहा कि केंद्रीय चयन पार्षद सिपाही भर्ती बोर्ड द्वारा 2018 की बीएमपी-11 की बहाली बुधवार को जमुई स्थित मलयपुर पुलिस लाईन में होनी थी, जिसके लिए सभी अभ्यर्थियों का मेडिकल 16 और 24 जुलाई को सदर अस्पताल जमुई में करवाया गया था। लेकिन किसी कारणवश मेडिकल रिपोर्ट आने में काफी विलंब हो रही थी। जिसके कारण मेडिकल रिपोर्ट नहीं आने की वजह से ज्वाइनिंग के लिए आये अभ्यर्थियों से मेडिकल फिटनेस के नाम पर 1000 रुपये की दर से 57 अभ्यर्थीयों से 57,000 रुपये लिया गया था। जिसकी भनक कमाण्डेन्ट मो.शफीउल हक़ को लगी, जिसके बाद कमाण्डेन्ट शफीउल हक़ द्वारा कार्रवाई करते हुए बीएमपी-11 के अध्यक्ष दीपक यादव और मंत्री आनंद सिंह को उस व्यक्ति के पीछे लगाया गया। जब उस व्यक्ति का पीछा किया गया तो वह व्यक्ति मलयपुर पुलिस लाइन के परिसर में स्थित शिव मंदिर के समीप रूपये को गिनते हुए पकड़ लिया गया। जिसके पास से 58 अभ्यर्थियों का लिस्ट के साथ 57,000 रुपया बरामद हुए।

गिरफ्तार अभ्यर्थी की पहचान भोजपुर जिला के नवादा थाना अंतर्गत पकड़ी गांव निवासी स्व0 रामसकल राम के पुत्र जयराम पासवान के रूप में हुई। कमाण्डेन्ट मो.शफीउल हक़ ने यह भी बताया कि गिरफ्तार व्यक्ति  से जब पूछ-ताछ की गई तो पता चला कि अभ्यर्थियों का मेडिकल फिटनेस के लिए वह पैसा लिया है जो सदर अस्पताल में कार्यरत संजय नामक व्यक्ति के साथ इसका संबंध होने की सूचना मिली। फिर भी  फिलहाल अभी कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। बिचौलिया युवक को गिरफ्तार के बाद बीएमपी-11 के अधिकारी अशोक सिंह ने मामले दर्ज करते हुए मलयपुर पुलिस के हवाले कर दिया गया है।

मामले की जांच की जाएगी और साथ ही कहा कि इसमें जिसकी भी संलिप्तता होगी उसे बख्शा नहीं जाएगा। जल्द ही इसमें संलिप्त सभी व्यक्तियों की पहचान कर उन पर कार्यवाई की जाएगी।