Breaking News

गिद्धौर : शादी-विवाह के आड़ में छलक रहा है जाम

[gidhaur.com | News Desk] :- सूबे के मुखिया ने ऐतिहासिक कदम उठाते हुए सूबे में पूर्ण शराबबंदी की। शराबबंदी को ले अधिनियम व कानून भी सख्त किये गए। पुलिस विभाग, उत्पाद विभाग व सीमा पर तैनात एसएसबी को भी इस ओर चौकस व सतर्क किया गया। बावजूद शराब की आवाजाही नहीं रूक रही।
दरअसल, अभी शादी विवाह का समय चल रहा है, ऐसे में बारात की शोभा बढ़ाने में शराब माफिया अहम भूमिका निभा रहे है।
बल्कि यूं कहें कि शादी विवाह के आड़ में शराब माफिया शराबबंदी कानून को ठेंगा दिखाकर चांदी काट रहे हैं। सूत्रों की यदि मानें तो, गिद्धौर के विभिन्न पंचायतों में हो रहे शादियों में जाम छलकते हुए देखा गया।

[सजती है महफ़िल, छलकते हैं जाम, नहीं पहुँचती पुलिस]

सूबे में पूर्ण शराबबंदी के बाद भी गिद्धौर में शराब के शौकीन, अपने हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। कुछ दिन से चल रहे शादी विवाह के उत्सव पर गिद्धौर में हर रोज जाम छलक रहा है। बारात पहले महफिल सजाते हैं, फिर छलकता है जाम, लेकिन उत्सवी माहौल के कारण इन तक पुलिस की पहुँच नहीं होती। लिहाजा बारात में शामिल माफियाओं के कुछ ग्राहक सरेआम शराबबंदी कानून की धज्जियां उड़ाते नजर आ जाते हैं।

[क्या है परिदृश्य]

बिहार में लागू शराबबंदी कानून के बाद, ज्यादा तो कुछ नहीं, लेकिन इतना फर्क जरूर आया है कि जहां पहले खुलेआम सार्वजनिक स्थलों पर  महफिल सजती थी, वहीं अब पुलिस की नजरों से बचने के लिए कहीं दुबक के शराब पीना पड़ रहा है।

ऐसा नहीं है कि इन माफियाओं पर कानून या प्रशासन नकेल नहीं कसता, पर इनकी पहुँच इतनी दूर तक होती है कि राजनीति मापदंडों में एक बार ये अपने धंधे को जारी रखने में संकोच नहीं करते, चाहे वो कोई त्योहार का अवसर हो या परिणयोत्सव।
विदित हो कि कुछ दिनों के लिए तो विवाह का मुहर्रत नहीं है, पर इस महीने के आगामी 26, 27 और 29 तारीख को जोरदार विवाह लग्न होने से स्थानीय शराब माफियाओं के इरादे बुलंद नजर आ रहे हैं, और इनके बुलंद इरादों के सामने शराबबंदी कानून बेबस होकर दम तोड रही है।

(अभिषेक कुमार झा)
गिद्धौर |  20/4/2018, शुक्रवार
www.gidhaur.com