Breaking News

सिमुलतला : नीतीश सरकार की 7 निश्चय योजना बन गई गाढ़ी कमाई का जरिया

[gidhaur.com | सिमुलतला(जमुई)] :- चाहे सरकारी साहब हो या जनता के प्रतिनिधि, वातानुकूलित सुविधा से लैस अपने कार्यालयों में बैठकर सूबे में हो रही विकास की लम्बी लम्बी बखान करते ये लोग थकते नही है। लेकिन किसी भी तंत्र को इस बात से कोई मतलब नही होता कि धरातल की वास्तविकता क्या है? वर्तमान में इसका जीता जागता उदाहरण है सरकार की महत्वाकांक्षी योजना सात निश्चय। सिमुलतला थाना क्षेत्र के कनौदी पंचायत में संचालित उक्त योजना की कार्यों पर यदि गौर किया जाय तो इसमें समाहित भ्रष्टाचार के कई काला चिट्ठा का पर्दाफाश हो सकता है। जानकारी के अनुसार, कनौदी पंचायत के कुल 14 वार्ड क्षेत्रों में से कुल 07 वार्डों में सात निश्चय योजना के तहत हो रहे गली नली एवं शौचालय योजना का कार्य, क्षेत्र के जन प्रतिनिधियों एवं कार्यरत अधिकारियों के लिए एक मोटी आमदनी का जरिया बन गया है। जानकारी के अनुसार, पंचायत क्षेत्र के वार्ड क्रमांक 12 नागवे गांव में हो रहे नाली निर्माण में सीमेंट एवं बालू का भाग 12/1 का इस्तेमाल किया जा रहा है। उसी नाली में मात्र पांच इंच का ईट का दीवार दिया जा रहा है  वो भी बंगले भट्ठे के निम्न गुणवत्ता की ईंट इस्तेमाल खुले आम किया जा रहा है। सिमुलतला बाजार वार्ड नम्बर 10 में हो रहे पीसीसी निर्माण में मात्र तीन इंच की ढलाई की जा रही है वो भी ईट सोलिंग के बिना ही। काम की गुणवत्ता भी लूट खसोट की दास्तां को बयां कर रही हैं। ऐसी व्यवस्था में बिहार सरकार के सात निश्चय योजनाओं को सामाजिक बदलाव की संज्ञा देना बेईमानी की बात होगी।

(बीरेन्द्र कुमार)
सिमुलतला | 30/5/2018, बुधवार
www.gidhaur.com