Breaking News

गिद्धौर व जमुई का हाल : शाम होते ही बढ़ जाता है ऑटो का किराया, होती है मनमानी

#ऑन स्पॉट रिपोर्टिंग

[न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा] :-

यदि आप जमुई अथवा गिद्धौर रेलवे स्टेशन पर रात 8 बजे के बाद उतरे हैं तो अपने बजट का ख्याल रखियेगा, क्योंकि स्टेशन से घर जाने के लिए आपको दुगना किराया चुकाना पड़ सकता है।
जी हां, दुगना किराया , वो भी इसलिए क्योंकि ये आपकी मजबूरी है और ऑटो चालकों की मनमानी जिसपर लगाम लगाने के लिए कोई भी इक्षुक नहीं दिख रहे। पाठकों व क्षेत्र के लोगों से मिल रहे शिकायतों पर gidhaur.com की टीम जमुई एवं गिद्धौर रेलवे स्टेशन पर चलने वाले इस माजरे का हाल जानने निकला तो सब कुछ शीशे की तरह साफ हो गया।

दरअसल, जमुई की सड़कों पर चलने वाले आॅटो चालकों द्वारा हो रही लगातार मनमानी से अब आम लोग भी परेशान होने लगे हैं। सड़क पर सरपट दौड़ते इन ऑटो से जिले का यातायात तो प्रभावित होता ही है, इसके अलावे  लोगों को कई दिक्कतों का सामना भी करना पड़ रहा है। आॅटो चालक सवारियों से मनमाना किराया तो वसूलते ही हैं वहीं उनके साथ कई बार अभद्रता तक करने को उतारू हो जाते हैं।
घड़ी में रात के 9:30 (अनुमानित) बजे रहे थे, जमुई स्टेशन पर ट्रेन लगी, पैसेंजर उतरे, ऑटो में बैठे, जमुई बाजार चलने को कहा, 20 रुपये प्रति पैसेंजर की मांग की गई, जबकि जमुई स्टेशन से बाजार तक 10 रुपये किराया हो निर्धारित किया गया है।

अब आइए थोड़ा गिद्धौर रेलवे स्टेशन का हाल जानते हैं, रात पहर में घड़ी की सुई 90 डिग्री का कोण बना चुकी थी, मतलब 9 बज चुके थे। स्टेशन परिसर में पार्किंग स्थल पर कुल 4 ऑटो लगी थी, जिसमें से एक सेवा, एक गंगरा और अन्य 2 गिद्धौर बाजार के लिए थी। अब गिद्धौर स्टेशन से गिद्धौर बाजार तक का ऑटो किराया 10 रुपये निर्धारित है पर 9 बजे के बाद ये किराया दुगुनी हो जाती है। मजबूर पैसेंजर को ये किराया चुकाना पड़ता है।

आलम ये है कि ऑटो का किराया दिन में तो निर्धारित रहता है, लेकिन शाम के बाद ऑटो वाले इसे बढ़ा देते हैं। स्थिति यह है कि मनमर्जी से ऑटो चालक दोगुना या उससे अधिक किराया भी वसूल करने में नहीं चूकते। ऐसे में नित्य दिन यात्रा करने वाले पैसेंजर खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। खास बात तो यह है कि ऑटो वालों की इस मनमर्जी की खिलाफ परिवहन विभाग या स्थानीय पुलिस भी कार्रवाई नहीं कर रही।

[जनता कहती है : पैसेंजर के मजबूरी का फायदा उठाते हैं ऑटो चालक]

नियमित यात्रा करने वाले दर्जनों यात्रियों ने नाम नहीं उजागर करने के शर्त पर बताया कि रात के वक्त ऑटो वाले हम यात्रियों की मजबूरी का फायदा उठा रहे हैं, क्योंकि शाम के बाद शहर में अधिकांश ऑटो चलना बंद हो जाते हैं। 8-9 बजे के बाद सिर्फ कुछ ऑटो ही जमुई स्टेशन पर लगे मिलेंगे। ऐसे में अगर किसी व्यक्ति को जमुई स्टेशन से जमुई बाजार तक जाना हो तो दुगुना भाड़ा अदा करना पड़ता है।
ऐसा नहीं है कि ये मनमानी आज से शुरू हुई है, लेकिन सम्बंधित विभाग व उनके अधिकारियों का इस समस्या से अनभिज्ञ बनना जनता के समझ से परे है।