Breaking News

अलीगंज : कामरेड चारू मजुमदार की मनाई गई शहादत दिवस

 
                [अलीगंज | चन्द्रशेखर सिंह] :-

प्रखंड के अलीगंज बाजार में एक निजी भवन में नकसलबाङी के संस्थापक कामरेड चारू मजुमदार की शहादत दिवस भाकपा माले के अंचल सचिव महेन्द्र यादव की अधय्क्षता में मनाई गई। शहादत दिवस कार्यक्रम में सर्व प्रथम लोगों ने उनके चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर किया। सभा को संबोधित करते हुए कामरेड बालदेव यादव ने कहा कि चारू मजुमदार जी गरीबों की हक व अधिकार की लड़ाई लड़ने का मन बनाया और अंतिम साँस तक गरीबों के हक व अधिकार की लड़ाई लड़ते रहे। आज मजुमदार जी की शहादत की 50 वर्ष पूरे हो गये हैं। वे देश के तमाम शोषित पीड़ित जनता के हित में अपना कैरियर त्याग कर कठोर से कठोर मुश्किलें झेलने और चरम आत्म त्याग करने के लिए प्रेरित किया था, और कुछ लोगों के द्वारा 28 जुलाई 1972  को कोलकता में हत्या करवा दिया गया था।वही अंचल सचिव ने कहा कि मजुमदार की आवाज पर युवा पीढ़ी सब कुछ त्याग कर उनकी एक आवाज पर निकल पड़ते थे। मजुमदार जी फौज मलिन बस्तियों की चल पडी थी । आज भी मातृभूमि को साम्राज्यवादी शोषण और शामंतवाद के अवशेषो से मुक्ति दिलाने का सपना दिखलाने के लिए किसी को सर्व प्रथम याद किया जाता है। जिसमें चारू मजुमदार की गिनती पहली पंक्तियों में किया जाता है। उनके बढ़ते जनाधार को देखकर शासकों ने उनकी हत्या करवा दिया। लोगों ने उनके विचारों पर चलने का संकल्प लिया।
मौके पर कामरेड गोरेलाल यादव, बालदेव यादव,नगीना पासवान, मुकेश रविदास, राजेंद्र यादव, राम सवरूप यादव, बंगाली माझी,सहित दर्जनो भाकपा माले कार्यकर्ता मौजूद थे।