Breaking News

अपने दृढ़ इच्छाशक्ति से युवाओं के आदर्श बने मंजीत शंकर


Gidhaur.com (विशेष) : एक युवा अगर समाज के लिये संकल्पित हो तो समाज के लिये बहुपयोगी बन सकता है इसकी जीवंत मिसाल के रूप मंजीत शंकर आदर्श बनकर उभरे है. परिवार से आर्थिक रूप से सम्पन्न होने के साथ मणिपाल यूनिवर्सिटी से दंत चिकित्सा मे उच्चतम स्थान को प्राप्त कर अपने काबिलियत को सिध्द कर चुके मंजीत विदेश मे स्वयँ को स्थापित करने के बजाय बिहार की धरती को अपने सेवा के लिये चुना.

मंजीत शंकर के पिता जय प्रकाश सिँह बिहार के प्रसिद्ध वरिष्ठ अधिवक्ता मे शुमार किये जाते है. उनके ही कार्यो से प्रेरित होकर मंजीत शंकर समाज सेवा की एक अनोखी पहल की. जिसमे उन्होने अपने पुस्तैनी जमीन को एक कार्यशाला के रूप मे स्थापित किया.
मंजीत जब अपनी पढ़ाई कर बिहार आये तो कुछ नया करने का जज्बा मिला. उनके कुछ मित्र जो फिल्म इंडस्ट्री के काम करते है उनको आर्थिक समस्या के कारण अपनी काबिलियत से समझौता करते देखा. क्यूँकि उन्हेँ बिहार मे कोई ऐसी सुविधा नही थी जिससे वो बिहार मे ही कम लागत मे फिल्म बना सके. रोज-रोज कलाकारो और निर्माताओं को इन परिस्तिथियों से गुजरना पड़ता था. जहाँ पैसे की कमी के कारण बिहार से बाहर महँगे लोकेशन लेने मे फिल्म निर्माता असमर्थ होते थे और अपने रचनात्मक को त्याग रहे थे धीरे धीरे ये घटनाये हावी होने लगी. जिसने मंजीत शंकर को आहत कर दिया. उस पल ही मंजीत ने सँकल्प लिया की इन कलाकारो के लिए कुछ करेंगे.
पटना के अवस्थित एक महँगी जमीन जहाँ से लाखो की कमाई की जा सकती है, उसको एक ऐसे रूप मे परिवर्तित किया जिसको फिल्म निर्माता शूटिंग कार्य के लिये उपयोग कर सके. कम लागत मे उनकी फिल्म बने. आज राज लक्ष्मी फार्म हाउस बिहार के प्रसिद्ध शूटिंग लोकेशन के रूप मे जाना जाता है. भोजपुरी सिनेमा के सारे बड़े स्टार आज यहाँ अपनी फिल्मो की शूटिंग कर चुके है. अपने अनुभव को बाहर भी साझा करते हुये इसको सबसे बेहतरीन शूटिंग लोकेशन के लिये तारीफ करते है.
निजी जीवन मे मंजीत शंकर माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी को समाजिक प्रेरणा मानते है. एक समाजिक कार्यक्रम मे जब सांसद आर सी पी सिँह से मुलाकात होने के बाद उनके योजनाओ से प्रभावित हुये और उनके साथ युवा जदयू  के लिये तकनीकी रूप से जुड़ गये. अपने बेहद आक्रामक कार्यशैली से प्रभावित होकर बहुत जल्द ही उनको जदयू महानगर मे अध्यक्ष बनाया गया. बिहार को विशेष राज्य का दर्जा के लिये युवाओ को देशव्यापी आँदोलन से जोड़ा और समाज सेवा के कार्यो मे अग्रणी भूमिका निभा रहे है.

अनूप नारायण
12/06/2018, मंगलवार