Breaking News

सोनो : झुमराज स्थान में उमड़ी भीड़, 657 बकरों की दी गई बलि, कमिटी को 32 हजार की राशि प्राप्त

Gidhaur.com (सोनो)  : प्रखंड के बटिया बाजार स्थित बाबा झुमराज स्थान में शुक्रवार को भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी. जिस कारण सोनो-चकाई मुख्यमार्ग पर घंटों तक जाम की स्थिति बनी रही. सड़क जाम की सुचना पाकर मौके पर पहुंची सोनो पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद जाम पर काबू पाया. शुक्रवार को तकरीबन 50 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने बाबा झुमराज के मंदिर में अपना माथा टेका और मन्नतें मांगी.
बताते चलें कि बाबा झुमराज से मांगी गई मुरादें पूरी होने के बाद श्रद्धालु बाबा झुमराज के मंदिर में ढोल बाजे के साथ आते हैं और यथा शक्ति फुल, बेलपत्र, प्रसाद, जनेऊ तथा बकरे की बलि चढ़ाते हैं. नियमानुसार चढ़ाई गई बकरे की मांस को मंदिर के समीप ही बनाकर प्रसाद के रूप में ग्रहण करते हैं. जिस कारण बकरों की बलि चढ़ाने वाले श्रद्धालु अपने गांव के लोगों को साथ लेकर बसों तथा छोटे-बड़े वाहनों पर सवार होकर आते हैं और प्रसाद ग्रहण करने के बाद पुनः शाम ढलने से पुर्व ही वापस अपने घर के लिए प्रस्थान कर जाते हैं.

शुक्रवार को बाबा मंदिर में 657 बकरे की बलि चढ़ाई गई तथा बाबा झुमराज स्थान प्रबंधन कमेटी के सदस्यों को इन श्रद्धालुओं से 32 हजार 205 रूपये की राशि प्राप्त हुई. इतनी बड़ी संख्या में राशि प्राप्त होने के बावजूद भी कमेटी द्वारा श्रद्धालुओं के लिए किसी प्रकार की कोई सुविधा मुहैया नहीं कराई जा रही है. जिन श्रद्धालुओं से प्रत्येक दिन हजारों और लाखों रुपए की आमदनी कमेटी को हो रही है लेकिन श्रद्धालुओं के लिए भीषण गर्मी में पेयजल की भी व्यवस्था नहीं की गई है.

केवल इतना ही नहीं इस मंदिर परिसर में एक भी शौचालय की सुविधा नहीं उपलब्ध की गई है. आस्था का प्रतीक माने जाने वाले इस मंदिर के समीप केवल एकमात्र कुंआ है जिसका पानी  ही पीने योग्य नहीं है. पेयजल के लिए केवल मात्र एक चापाकल है जिस कारण उक्त चापाकल पर बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ लगी रहती है. ऐसी परिस्थिति में स्थानीय दुकानदार भी मनामने दामों में बोतल बंद  पानी बेचकर इसका खूब लाभ उठाते है.
शुक्रवार को बाबा मंदिर में उमड़ी भीड़ के कारण कई छोटे-छोटे बच्चे अपने मां-बाप से बिछड़ गए और रोते हुए इधर उधर भटकने लगे. बच्चे के मां-बाप द्वारा बच्चों की खोजबीन शुरू की गई, परंतु बाबा मंदिर कमेटी के सदस्यों ने इसमें कोई रूचि नहीं दिखाई. हालाँकि थोड़े देर में ही पास के पंचमुखी हनुमान मंदिर कमेटी के सदस्यों द्वारा अनाउंस कर खोये बच्चे के मिलने की सूचना प्रसारित की गई. जिसके बाद बच्चे के अभिभावक उसे ले गए.

चन्द्रदेव बरनवाल
सोनो     |     30/03/2018, शुक्रवार