Breaking News

दिवाली के अवसर पर घर-घर में हुई विघ्नहरण गणेश एवं महालक्ष्मी की पूजा


Gidhaur.com (न्यूज़ डेस्क) दिवाली विशेष :- र तरफ रौशनी, प्रज्वलित दीपक, फूटते अनार, चेहरे पर खुशी, भाईचारे का सद्भाव, कुछ ऐसा ही नजारा देखने मिला जब गुरुवार को गिद्धौर में दीपावली का त्योहार धूमधाम से मनाया जा रहा था। सूर्यास्त होते ही गिद्धौर प्रकाश से नहा उठा। गिद्धौर वासियों ने अपने घरों व प्रतिष्ठानों को फूलों, दीपों व बिजली की झालरों से सजाया। तत्पश्चात शाम को पारंपरिक ढंग से लक्ष्मी-गणेश का पूजन किया गया। इसके बाद बड़े-बुजुर्ग बच्चों के साथ आतिशबाजी का आनंद लेते नजर आए।

कैसा रहा व्यवसाय
हालांकि दीपक के इस त्योहार पर भी महंगाई और जीएसटी का असर साफ देखने को मिला। पिछले वर्षो की अपेक्षा इस बार बाजारों की रौनक फीकी नजर आई। जिससे व्यापारियों के चेहरे पर मायूसी लटकी रही। इस बार महंगाई ने लोगों को सीमित खर्च करने पर मजबूर कर दिया। लोग बाजार तो जरूर निकले लेकिन खरीदारी काफी कम की। सजावट व पटाखों पर लोगों ने सीमित खर्च किया। पिछले वर्षों से तुलना की जाए तो इसमें कुछ कमी नजर आयी। पटाखे भी अपेक्षाकृत कम छुटे।

खुलेआम बिके पटाखे
सुप्रीम कोर्ट के कड़े हिदायत के उपरांत भी गिद्धौर टावर चौक के इर्द-गिर्द कई छोटे मोटे स्टाॅल्स पर पटाखों की बिक्री हुई, कुछ ग्राहक महंगाई के बोझ से पटाखों से दूर भी हटे। पर खुले आम सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवहेलना करना गिद्धौर को शर्मसार करने के लिए काफी था।

जुआरियों ने मचाया उत्पात
संध्या होते ही एक ओर जहां पूरा गिद्धौर प्रकाश से नहा रहा था, वहीं दूसरी ओर जुआ, और जुए की महफिल से उठता धुंआ इस त्योहार के पवित्र आस्था को धूमिल कर रहे थे। गिद्धौर के अधिकांश मंदिर परिसर में जुआरियों का अड्डा और हुल्लडबाज़ी करती उनके संस्कार इस त्यौहार की ख़ुशी थोड़ी सी प्रभावित कर रहे थे |

गिद्धौर     |     20/10/2017, शुक्रवार
www.gidhaur.com