Breaking News

6/recent/ticker-posts

गिद्धौर के ऐतिहासिक दुर्गा पूजा सह लक्ष्मी पूजा कार्यक्रम की हुई उद्घोषणा

गिद्धौर/जमुई (Gidhaur/Jamui), 17 सितंबर 2023 | रिपोर्ट : अपराजिता : जमुई जिला के गिद्धौर राज रियासत के गौरवशाली इतिहास में यहां के दुर्गा पूजा का स्वर्णाक्षरों में उल्लेख है। माता शेरावाली की भक्ति के लिए शारदीय नवरात्र तथा लक्ष्मी पूजा का महत्व यहां के लोगों तथा बाहर से आने वाले लोगों के बीच भी है।

दुर्गापूजा का इंतजार यहां के लोग बहुत ही बेसब्री से करते हैं। शारदीय नवरात्रि के प्रथम दिन कलश स्थापना होती है। शारदीय दुर्गा पूजा में दुर्गा के 9 और स्वरूपों की पूजा करने का विशेष महत्व है। गिद्धौर के उलाई नदी के तट पर स्थित मां दुर्गा के मंदिर में माता रानी की पूजा विधि- विधान सहित होती है। 
वर्ष 2023 के शारदीय दुर्गा पूजा सह लक्ष्मी पूजा कार्यक्रम की उद्घोषणा गिद्धौर राज रियासत के ज्योतिषाचार्य डॉ. विभूति नाथ झा के द्वारा की जा चुकी है। इस वर्ष दिनांक 15 अक्टूबर, रविवार से 23 अक्टूबर, सोमवार तक नवरात्रि है और 24 अक्टूबर, मंगलवार को विजयदशमी है। इसके बाद शरद पूर्णिमा पर 28 अक्टूबर, शनिवार को लक्ष्मी पूजा और 29 अक्टूबर, रविवार को विसर्जन है।

प्रत्येक वर्ष दुर्गा पूजा में गिद्धौर में बहुत बड़ा मेला लगता है। जिसमें बाहर से सर्कस, जादू का खेल, चूड़ियों की दुकान, मिठाई की दुकान, तारामाची, मौत का कुआं, काठघोड़ा, नाव जैसे बहुत सारे खेल-तमाशे आते हैं। यहां के पूजा कार्यक्रम को वर्ष 1996 में जनश्रित घोषित कर दिया गया। जिसके बाद शारदीय दुर्गा पूजा सह लक्ष्मी पूजा समिति द्वारा पूजा कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ