Breaking News

6/recent/ticker-posts

जमुई : अंगदान के लिए जागरूकता रैली आयोजित

जमुई (Jamui), 9 अगस्त 2023 : क्या आप जानते हैं कि देश में हर साल हजारों लोगों की मौत सिर्फ इस वजह से हो जाती है , क्योंकि उन्हें समय पर ऑर्गन ट्रांसप्लांट नहीं हो पाता है। अगर किसी बीमार व्यक्ति को उसके शरीर का महत्वपूर्ण अंग दान के रुप में मिल जाए तो उस आदमी की जान बचाई जा सकती है। इसी विषय को लेकर जागरुकता फैला रही दधीचि देह दान समिति। इसी कड़ी में समिति की जिला इकाई ने शहर के बोधवन तालाब से जन जागरूकता रैली निकाला जो मुख्य मार्गों से गुजरता हुआ कचहरी चौक पहुंचा और एक सभा में तब्दील हो गया।

जमुई के जाने - माने हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. नीरज साह ने जागरूकता रैली को झंडी दिखाकर रवाना करते हुए कहा कि देश में हर साल करीब 17000 लोग ऐसे हैं जो ऑर्गन डोनेट करने का काम कर पाते हैं। लेकिन अगर जरूरत की बात करें तो हर साल हमारे देश में आंख , नाक , कान , लीवर , हृदय और अन्य महत्वपूर्ण ऑर्गन्स की जरूरत लाखों की संख्या में होती है।

उन्होंने आमजनों से अपील करते हुए कहा कि देह दान महा दान है। इसे उदारता के साथ करें और जरूरतमंदों की जान बचाने में सहयोग दें। डॉ. साह ने दधीचि देह दान समिति के कार्यों की जमकर तारीफ की और रैली के आयोजकों को साधुवाद दिया।
डॉ. एस. के. गुप्ता ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि देश में हर साल 50000 से ज्यादा किडनी और 25000 से अधिक हार्ट की आवश्यकता पड़ती है। इस स्थिति में वे लोग अपनी जान से हाथ धो बैठते हैं। जिनको समय पर यह अंग दान नहीं मिल पाता है। इस समस्या का हल करने के लिए दधीचि देह दान समिति सतत प्रयत्नशील है जो काबिलेतारिफ है।

मुख्य संरक्षक डॉ. मनोज कुमार सिन्हा ने मौके पर इस बात पर जोर दिया कि अगर कोई इंसान जो स्वस्थ है और जिसकी समय से पहले मौत हो गई है। अगर उसके अंगों को दान कर दिया जाए तो देश में हजारों लोगों की जान बचाई जा सकती है।
महासचिव दिलीप साह ने इस अवसर पर बताया कि लोगों को अंगदान के महत्व को समझना होगा। इसके दान से किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं आती है। उन्होंने लोगों को देह दान के लिए जागरूक किया।

अध्यक्ष प्रदीप केशरी , सचिव श्रीकांत बाबू , उपाध्यक्ष मनोज कुमार उर्फ मंटू साह , संरक्षक महेश प्रसाद केशरी , ओंकार बरनवाल आदि ने जागरूकता रैली में हिस्सा लिया और नेत्रदान के साथ अंग दान करने की अपील की।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ