Breaking News

6/recent/ticker-posts

गिद्धौर के सामाजिक कार्यकर्ता कुमार सुदर्शन सिंह ने लिया देहदान का संकल्प

गिद्धौर/जमुई (Gidhaur/Jamui), 7 जुलाई 2023 : जब इंसान जिंदा होता है तो तरह-तरह के दान करता है, लेकिन जो व्यक्ति मृत्यु उपरांत अंगदान या देहदान करके जाता है वो मरने के बाद भी कई लोगों को नई जिंदगी देकर जाता है। वैसे भी यह शरीर नश्वर है। इसमें पंचतत्वों का समावेश है। आत्मा हीन हो जाने पर तो इसे पुन: पंचतत्वों में घुल-मिल ही जाना है। इस से बेहतर है जीवन-मरण के चक्र में क्यों न इसकी सार्थकता साबित की जाए।

इसी सोच के साथ गिद्धौर निवासी प्रसिद्ध सामजिक कार्यकर्त्ता कुमार सुदर्शन सिंह ने रक्तदान व अंगदान/देहदान के क्षेत्र में वर्षों से जागरूकता का अलख जगा रहे रक्तदानी व देहदानी सुमन सौरभ की उपस्थित में दधिचि देहदन समिति द्वारा जारी संकल्प पत्र को भरकर देहदान का संकल्प लिया है।

देहदान का संकल्प लेने के उपरांत कुमार सुदर्शन सिंह ने कहा मृत्यु के बाद एक दिन सभी को खाक में मिल जाना है। कितना अच्छा हो कि मरने के बाद भी हमारा शरीर शिक्षा का माध्यम बन जाए, ताकि चिकित्सक शोध कर पीड़ितों को जीवनदान दे सकें।
उन्होंने आगे कहा की पूरे जमुई में अंगदान/देहदान के लिए आम लोगों को जागरूक करने का हर संभव प्रयास होगा तथा उन्होंने जमुई के बुद्धिजीवी वर्ग को इस अभियान से जुड़कर मानवता की मिशाल पेश करने का आह्वान किया है।

वहीं सामजिक कार्यकर्त्ता सुमन सौरभ ने कुमार सुदर्शन सिंह को देहदान हेतु संकल्प लेने को लेकर बधाई दिया व कहा कि अगर कोई व्यक्ति देहदान का संकल्प लेता है तो मानो आध्यत्मिक दृष्टि से वह कई वर्षों की कठिन तपस्या का फल पा लेता है क्योंकि यह संकल्प इस बात का सूचक है कि उस व्यक्ति ने शरीर को स्वयं से भिन्न अनुभव कर लिया है जो कि आध्यात्मिक-यात्रा में एक लंबी छलांग है।
उन्होंने आगे कहा मृत्यु उपरांत देहदान हो या अंगदान इसका फैसला काफी कठिन और साहस से भरा होता है। निःसंदेह कुमार सुदर्शन सिंह का इस अभियान से जुड़ने से इस अभियान को गति मिलेगा।

पर्यावरण मित्र व समाजसेवी हरेराम कुमार सिंह ने कहा कुमार सुदर्शन सिंह का योगदान हर एक सामाजिक कार्य में अतुलनीय होता है चाहे वो पर्यावरण संरक्षण के लिए किया गया कार्य हो, जरूरतमंद के बीच अन्न दान से जुड़ा हुआ कार्य हो, गरीबों के अधिकार संरक्षण के लिए किया गया कार्य हो तथा रक्तदान के लिए किया गया कार्य इसके अलावे भी विभिन्न प्रकार के सामजिक कार्यों में इनकी भागीदारी बढ़-चढ़ कर होती है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ