Breaking News

6/recent/ticker-posts

गिद्धौर : रतनपुर में कलश शोभायात्रा के साथ श्री श्री 108 शतचंडी महायज्ञ का हुआ शुभारंभ

रतनपुर/गिद्धौर (Ratanpur/Gidhaur), 24 मई 2023
* रिपोर्ट : भीम राज 
गिद्धौर प्रखंड के रतनपुर में सोमवार को कलश शोभायात्रा के साथ श्री श्री 108 नौ दिवसीय शतचंडी महायज्ञ का शुभारंभ किया गया। गाजे-बाजे के साथ कलश शोभायात्रा में शामिल 1051 सुहागिन महिलाएं एवं कुमारी कन्याओं के द्वारा अपने अपने माथे पर कलश रखकर यज्ञ स्थल से कतारबद्ध होकर यात्रा शुरू की जो गांव का परिक्रमा कर शोभायात्रा उलायवीयर नदी घाट पहुंची।

घाट पर विद्वान पंडितों के द्वारा वैदिक मंत्रोचार के साथ कलश धारी महिलाएं एवं कन्याएं अपने-अपने कलश में जल भरकर पूरे गांव का परिक्रमा कर यज्ञ स्थल पहुंचकर शोभायात्रा का समापन किया। शोभायात्रा के दौरान माता के जयकारे एवं शंख ध्वनि से पूरा माहौल भक्तिमय दिखा।कलश शोभायात्रा में शामिल पुरुष श्रद्धालु अपने-अपने लिलार पर त्रिपुंड लगाकर यात्रा में शामिल हुए थे,जो सनातनी सभ्यता को मूर्त रूप दे रहे थे।

कलश यात्रा में रथ पर सवार भगवान शंकर,राम- लक्ष्मण, माता सीता,हनुमान, विद्या की देवी सरस्वती आदि की झांकियां आकर्षण में रही। नौ दिवसीय महायज्ञ का पूर्णाहुति 30 मई को हवन के साथ संपन्न होगा। वाराणसी के आचार्य चंचलानंद पांडेय, रासलीला सोनू भारद्वाज, कथावाचक नीलेश शास्त्री के देखरेख में संपन्न होगा।
बता दें कि महायज्ञ रतनपुर पंचायत के ग्रामीण एवं कमेटी के सहयोग से किया गया वहीं दूसरी ओर मां जानकी राइस मिल के मालिक जितेंद्र कुमार साह के द्वारा गांव के साह टोला में स्थित बजरंगबली मंदिर को भव्य एवं सुंदर मंदिर का निर्माण किया गया,जहां महायज्ञ के दौरान महावीर हनुमान की प्रतिमा को आगामी 29 मई को वैदिक मंत्रोचार से प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी। शोभायात्रा के साथ कलश यात्रा को सफल बनाने में  यज्ञ कमेटी के लोगों ने जगह-जगह पर कमेटी के लोगों को लगाया था। महायज्ञ में यहां पूरे 9 दिनों तक हवन पूजन के साथ रात्रि में प्रवचन कथा और रासलीला का आयोजन किया जाएगा। महायज्ञ में अखंड भंडारा का भी आयोजन किया जाएगा। 

इस शोभायात्रा में कमेटी के अध्यक्ष श्यामसुंदर साह,सचिव संजय साह, कोषाध्यक्ष कृष्णा प्रसाद साह, महेंद्र साह,रणधीर साह,रामबचन साह, छोटन साह, राजेंद्र साह,प्रमोद साह,भासो साह,पवन साह,अजय ठाकुर सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे।

Post a Comment

0 Comments