Breaking News

जमुई : लगातार दूसरी बार बेस्ट टीचर अवार्ड से सम्मानित हुए आरसीएसएम के शैलेश

जमुई (Jamui), 17 सितंबर : आरसीएसएम कंप्यूटर सेंटर के विद्वान निदेशक शैलेश कुमार को शिक्षक दिवस के ऐतिहासिक अवसर पर महाराष्ट्र , नागपुर की संस्था ऑल इंडिया काउंसिल फॉर प्रोफेशनल एक्सीलेंस ने बेस्ट टीचर अवार्ड से सम्मानित किया। जमुई के लाल को लगातार दूसरी बार बेस्ट टीचर का अवार्ड मिलने से संस्थान के विद्यार्थी और जिलावासी मुदित हैं। सबों ने उन्हें शुभकामना देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की है।


ऑल इंडिया काउंसिल फॉर प्रोफेशनल एक्सीलेंस नामक नागपुर की संस्था प्रति वर्ष पूरे देश में 101 विद्वान शिक्षक को बेस्ट टीचर का अवार्ड देती है। बिहार से जमुई शहरवासी शैलेश कुमार इकलौते बेटे हैं जिन्हें लगातार दूसरी बार यह सम्मान हासिल हुआ है।

गौरतलब है कि श्री कुमार को इसके पूर्व सोसायटी फॉर इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट नामक राष्ट्रीय स्तर की संस्था ने 2010 में बेस्ट सेंटर डायरेक्टर अवार्ड से सम्मानित किया था। कालक्रम में वे राष्ट्रीय आयुर्वेद रत्न अवार्ड से भी सम्मानित किए गए। इसके अलावे कई संस्थाओं ने भी उन्हें बेहतर कार्य करने के लिए विभिन्न पुरस्कारों से पुरस्कृत किया।

उल्लेखनीय है कि श्री कुमार पिछले दो दशक से भी अधिक समय से जमुई शहर में आरसीएसएम कंप्यूटर सेंटर का संचालन कर तकनीकी शिक्षा का प्रचार - प्रसार कर रहे हैं। उनके कुशल नेतृत्व में अब तक 6000 से अधिक छात्र - छात्राओं ने कंप्यूटर का ज्ञान हासिल कर  सरकारी तथा गैर सरकारी संस्थाओं को सेवा दे रहे हैं और बेरोजगारी की समस्या से निजात पाकर आत्मनिर्भर बन चुके हैं।

उधर आरसीएसएम कम्प्यूटर सेंटर के निदेशक शैलेश कुमार को बेस्ट टीचर अवार्ड से सम्मानित किए जाने के उपरांत संस्थान के विद्यार्थियों ने सेंटर के प्रशाल में सम्मान समारोह का आयोजन किया। छात्र - छात्राओं ने इस अवसर पर उन्हें खास अंदाज में सम्मानित किया और उनके विद्वत व्यक्तित्व को अनुकरणीय करार दिया।

सामाजिक कार्यकर्ता उदय कुमार, सरवन कुमार, महावीर प्रजापति, लड्डू मिश्रा, बम बम जी, विद्यार्थी रंजेश कुमार, अंकित कुमार, विनोद कुमार, सुमन कुमार, प्रेम कुमार, सनी कुमार, संध्या सिन्हा, सेजल कुमारी समेत बड़ी संख्या में सम्बंधित जन कार्यक्रम के गवाह बने और इसे सफल बनाया। पूर्ववर्ती छात्र वेंकटेश कुमार ने कार्यक्रम का मंच संचालन किया और खूब तालियां बटोरी। समारोह उत्सवी माहौल में संपन्न हो गया।