Breaking News

चकाई : बीडीओ-सीओ ने कांवरिया सेवा शिविर का लिया जायजा, रेट चार्ट लगाने का निर्देश

 
चकाई/जमुई (Chakai/Jamui), 14 जुलाई
◆ रिपोर्ट : सुधीर कुमार
प्रखंड मुख्यालय परिसर में प्रखंड प्रशासन द्वारा लगाए गए कांवरिया सेवा शिविर का गुरुवार को उद्घाटन बीडीओ दुर्गा शंकर एवं सीओ राकेश रंजन के द्वारा संयुक्त रूप से किया गया. इस दौरान बीडीओ दुर्गा शंकर, सीओ राकेश रंजन, रजिस्टार कमलेश रजक, पीओ संजय झा द्वारा कांवरिया सेवा शिविर का जायजा लिया गया।

बीडीओ दुर्गा शंकर ने मौके पर जानकारी देते हुए बताया कि कांवरियों की सेवा के लिए प्रर्याप्त मात्रा में पेयजल, 8 कमरे का शौचालय, बाथरूम बिजली, स्वास्थ शिविर, पुलिस सहायता केन्द्र आदि की व्यवस्था कर दी गई है। इसके अलावे बीडीओ ने शौचालय एवं आस पास की गंदगी की सफाई हेतु 4 सफाई कर्मी को नियुक्त किया गया है।
बीडीओ ने कहा कि 4 लोगों की एक उड़नदस्ता टीम बनाई जाएगी जो गुप्त तरीके से दुकानों एवं होटलों में जाकर यह जांच करेगी कि कावरिया यात्रियों से अधिक पैसा तो नही लिया जा रहा है। भोजन की गुणवत्ता की भी जांच की जाएगी। कांवरियों को सुरक्षित बार्डर एवं जंगल पास करने के लिए बासुकीटांड, चकाई मोड़, बामदह मोड़, बटिया आदि स्थानों पर पुलिस चेकपोस्ट बनाया गया है, जो कांवरियों की सहायता करेगी।

वहीं प्रखंड प्रशासन द्वारा चकाई मोड़ एवं आस पास के सभी दुकानदारों को बुलाकर निर्देश दिया गया कि श्रावणी मेला के दौरान सभी दुकानदारों एवं होटल संचालकों को दुकान के आगे सरकार द्वारा तय की गई रेट चार्ट लगानी होगी तथा उसी के हिसाब से भोजन, नाश्ता सहित अन्य वस्तुओं की तय कीमत लेनी पड़ेगी।
वहीं सीओ ने कहा कि श्रावणी मेला के दौरान सभी होटलों एवं दुकानों में ताजा भोजन एवं नास्ता तथा अन्य खाद्य सामग्री रखना जरूरी है। अगर भोजन की शिकायत मिलती है तो उक्त दुकानदार पर कार्रवाई होगी।

वहीं रजिस्ट्रार ने कहा कि अपने अपने दुकानों के सामने गन्दगी नही रखनी है। साफ-सुथरा रखना आपकी ड्यूटी है।वहीं उनके द्वारा प्रखंड मुख्यालय में कावरिया यात्रियों की सुविधा हेतु अतिरिक्त बल्ब एवं ट्यूबलाइट लगाने का निर्देश दिया गया।
मालूम हो कि श्रावणी मेला के दौरान बाबाधाम से जल चढ़ाकर आने वाले कांवरिया यात्रियों का रात्रि विश्राम चकाई में होता है। इसके उपरांत वे झारखंड एवं बिहार स्थित अपने अपने घरों को प्रस्थान करते हैं। खास कर सोमवार एवं रविवार को यहां विश्राम करने हेतु यात्रियों की भारी भीड़ जमा होती है।