Breaking News

झाझा : धमना के अतिप्राचीन काली मंदिर में वार्षिक सलौनी पूजा की 6 जून से होगी शुरुआत

झाझा/जमुई (Jhajha/Jamui), 3 जून :
रिपोर्ट : अभिलाष कुमार
झाझा प्रखंड अंतर्गत धमना गाँव स्थित अतिप्राचीन माँ दक्षिणेश्वर काली मंदिर में वार्षिक सलौनी पूजा 6 जून को कलश स्थापना के साथ शुरू होगा। जो कि लगातार पूरे नौ दिनों तक विधिवत रूप से जारी रहेगा। पूजन कार्य मंदिर के पुजारी आचार्य श्री जयनारायण पाण्डेय जी के द्वारा वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ किया जाएगा।

इस पूजा की शुरुआत सन 1684 ई. में हुई थी जो तब से अनवरत चली आ रही है। इस मंदिर की स्थापना महाराजा कुँवर वैद्यनाथ सिंह ने की थी। यहां की वार्षिक सलौनी पूजा उसी परम्परागत रीति-रीवाज के अनुसार आज तक होती आ रही है।

यहां की महत्ता है कि माँ काली की आराधना जो भी श्रद्धालु सच्चे मन से करते हैं उन्हें संतान प्राप्ति होती है। पूजा के विशेष आस्था पर अगर  नजर डालें तो लोगों का कहना है कि कलश स्थापना के दिन से ही इस गाँव के निवासियों द्वारा लहसुन, प्याज, माँस-मदिरा का सेवन नहीं किया जाती है। यहां जो भी श्रद्धालु सच्चे दिल से मन्नत माँगते हैं उनकी मनोकामनाएं माँ काली अवश्य पूरी करती हैं। 
इस अवसर पर मेला का आयोजन होगा। जिसके लिए खेल-तमाशा वाले के आने की शुरुआत हो गई है। इसके लिए छोटा तारामची, ब्रेक डांस, छोटी रेल, नाव झूला, कठघोड़ा, मीना बाजार व अन्य आयोजन होगा।