कवि प्रभात सरसिज ने अपनी नई किताब 'कांटों की सहोदरा हैं कलियां' विधायक दामोदर रावत को की भेंट

पटना (Patna), 27 फरवरी : हिंदी साहित्य के सुविख्यात कवि, साहित्यकार प्रभात सरसिज के पटना स्थित आवास पर शुक्रवार को झाझा विधायक व बिहार सरकार के पूर्व मंत्री दामोदर रावत (Jhajha MLA Damodar Rawat) ने औपचारिक मुलाकात कर कुशलक्षेम जाना और उनके उत्तम स्वास्थ्य की कामना की।
इस मौके पर प्रभात सरसिज (Prabhat Sarsij) ने विधायक दामोदर रावत को अपनी नई कविता संग्रह 'कांटों की सहोदरा हैं कलियां' की प्रति भेंट की।
बता दें कि साहित्यकार प्रभात सरसिज एवं विधायक दामोदर रावत दोनों ही मूल रूप से जमुई (Jamui) जिलान्तर्गत गिद्धौर (Gidhair) के रहने वाले हैं। प्रभात सरसिज का दामोदर रावत के राजनीतिक जीवन (Political Life) में अतुल्य योगदान रहा है। वहीं दामोदर रावत भी उन्हें परस्पर आदर भाव दिया करते हैं।

प्रभात सरसिज जनचेतना के कवि के रूप में जाने जाते हैं। उनकी अन्य कविता संग्रह 'लोकराग', 'गजव्याघ्र', 'आवारा घोड़े', 'मुल्क में मची है आपाधापी' उनके प्रशंसकों के साथ-साथ आलोचकों द्वारा भी सराही गई है। लेखन में उनके योगदान को देखते हुए विभिन्न बड़े मंचों पर उन्हें सम्मानित भी किया जा चुका है।

वहीं दामोदर रावत बिहार के लोकप्रिय राजनेता हैं। लंबे समय से सक्रिय राजनीति में हैं। सरकार में मंत्री रहने के साथ-साथ झाझा विधानसभा क्षेत्र से कई टर्म विधायक रहे हैं एवं वर्तमान में भी झाझा से विधायक हैं।

Post a Comment

Previous Post Next Post