Breaking News

पशु तस्करों के लिए सेफ जोन रूट बना सिमुलतला, गाड़ियों में लादकर हो रही तस्करी

सिमुलतला/झाझा/जमुई (Simultala/Jhajha/Jamui), (बीरेंद्र कुमार) : इन दिनों सिमुलतला पशु तस्करों के लिए सेफ जोन रूट बना हुआ है। सप्ताह के चार दिन  इस रूट से छोटे-बड़े वाहनों से पशुओं की तस्करी खुलेआम हो रही है। खासकर शनिवार, रविवार, सोमवार एवं मंगलवार के दिन रात करीब दो दर्जन से भी अधिक गाड़ियों में पशुओं को लादकर ले जाया जाता है।
इस रास्ते पशुओं को अंतरप्रांतीय हाट बजारों तक पहुंचाया जाता है। पशु तस्करी रोकने के लिए सरकारी उपाय यहां पूरी तरह से निष्प्रभावी है। यह धंधा यहां बेपरवाह तरीके से मजे से फलता फूलता रहा है। इस धंधे पर रोकथाम के सारे उपाय कानूनी किताबों में ही धूल फांक रहे हैं। वाहनों से पार करने में बड़े ट्रक के अलावा छोटे पिकअप का उपयोग पशु तस्कर करते हैं।
अवैध गो तस्करी पर ना प्रशासन , जनप्रतिनिधि और ना ही समाज सेवी या संस्था ध्यान दिया है। जबकि सिमुलतला में एसएसबी के जवान भी तैनात है। जबकि हिन्दू संगठन बजरंग दल के सदस्य कहते है कि हमलोग लगातार कई बार गक तस्करी के लिए पुलिस को सूचना दिया गया, लेकिन पुलिस तस्कर के विरुद्ध कार्रवाई करने के बजाय हमलोगो को ही डांट फटकार लगाते है।

सूत्रों की माने तो प्रति गाड़ी एक हजार  से डेढ़ हजार रुपये  मार्ग में पड़ने वाले थानों को देकर पशु तस्कर द्वारा गाड़ी को पार कराया जाता है। जमुई, लक्खीसराय एवं नवादा जिले के ग्रामीण किसानों से सस्ते दामो पर पशु तस्कर पशुओ को एकत्रित करते है फिर अवैध तरीके से पशुओ को पैदल चलाकर सिमुलतला थाना क्षेत्र के रास्ते बांका जिला की सीमा में प्रवेश करते है जो देवघर के मोहनपुर पशु हाट तक ले जाता है।
हाट में पशुओ की खरीद बिक्री कर उसे बड़े वाहनो में लोडकर कोलकाता के कसाईखानों तक पहुंचाया जाता है,साथ ही कुछ वाहनो को पश्चिम बंगाल के बंगलादेश एवं भारत की सीमा तक ले जाया जाता है। जहां ब्रह्मपुत्रा नदी में अवैध तरीके से पार कर बंगलादेश की कसाईखानों तक पहुंचा दिया जाता है। 

पत्रकारों द्वारा पूछताछ के दौरान गो तस्करी के वाहन चालक ने बताया कि हमलोग इस पशुओं को  सिकंदरा के हाट से लाते है मोहनपुर हाट में बेचते है। सिमुलतला थाना की सहमति से ही हमलोग इधर से आते जाते है।

सूत्रों की माने तो प्रत्येक सोमवार एवं मंगलवार की रात्रि आधे दर्जन से अधिक पशु तस्करों की वाहन सिमुलतला थाना के गेट से होकर गुजरती है और स्थानीय प्रशासन अनजान बनी रहती है।

बताते चलें कि बीते 01 अगस्त को सिमुलतला से सटा जमुई बांका बार्डर के हेमताकुरा गांव में मीडिया एवं क्षेत्र के युवाओं की सक्रियता से तस्करी के लिए ले जा रहे पशुओ को दबोचा गया था।जिसमे लगभग आठ दर्जन पशु सहित दो बड़े ट्रकों को जब्त किया गया था।

इसके अलावे बीते 05 जुलाई की रात्रि सिमुलतला थाना के गेट से होकर अवैध बालू भारी ट्रक गुजर रही थी इसमे भी मीडिया की सक्रियता से ट्रक पकड़ी गई थी।

इस संदर्भ में सिमुलतला थानाध्यक्ष जितेंद्र कुमार बताते है कि गो तस्करी का मामला मुझे पता नहीं है यदि ऐसा हो रहा है तो मैं अवश्य कार्रवाई करूँगा। मुझे रहते क्षेत्र में कोई अवैध धंधा नहीं होगा और यदि कोई करने की कोशिश भी करेगा तो मैं उसे किसी भी कीमत पर नहीं छोडूंगा।