Breaking News

रिलीज़ होते ही छाई देश के 40 युवा लेखकों की लेख संग्रह पुस्तक 'हम भारत के लोग'



पटना (Patna), 3 दिसंबर : 1 दिसम्बर को रिलीज हुई लेख संग्रह की किताब  

'हम भारत के लोग' में देश के 40 युवा लेखकों ने भारत के समृद्धशाली पक्ष की आराधना करते हुये दृष्टि दी है। युवाओं की यह दृष्टि उनकी राष्ट्र वंदना है।


संविधान की प्रस्तावना की शुरुआती पंक्ति से इस किताब का शीर्षक "हम भारत के लोग" रखा गया है। इस किताब में देशभर के ऐसे युवाओं के लेख हैं, जो इस देश की संस्कृति, यहां की व्यवस्था और समस्याओं के बारे में सिर्फ जानते ही नही बल्कि उन्हें जीते हैं।


पाठकगण इस किताब में जानेंगे भारत के विभिन्न राज्यों की संस्कृति वहाँ के युवाओं की दृष्टि से, जिसमें है, बम-बम बिहार, झारखंड की उपराजधानी दुमका, गिद्धौर राज रियासत, आदिवास सदान और दीकु की दास्तान इत्यादि। इसके साथ  ही भारत मे धर्मनिरपेक्षता, रंगभेद, भ्रष्टाचार, गरीबी, बेरोजगारी और आरक्षण जैसे ज्वलंत मुद्दों पर भी लेख पढ़ने को मिलेंगे। महिलाओं के मुद्दों पर भी काफी प्रभावशाली लेख इस किताब में सम्मलित हैं।


इस लेख संग्रह में मंगलेश पांडेय, सौरभ सिन्हा, सुरुची कुमारी, रवि राज पाठक, शम्भू शरण सत्यार्थी, राहुल शर्मा, नृपेंद्र अभिषेक, रोहित यादव, अम्वेश कुमार चौबे, उत्कर्ष नयन श्रीवास्तव, कीर्ति प्रकाश, सविता राजपुरोहित, टीकाराम लोधी, कीर्तिदेव कारपेंटर, डॉ. संतोष त्रिपाठी, सुशील यादव, रमिला राजपुरोहित, शिवेश मिश्र, चंदन मेहता, यथार्थ बिर्ला, सुशांत साई सुंदरम, महेश तिवारी, मृदुला सिन्हा, डॉ. प्रिया पचौरी, अभिषेक अकिंचन, अभिषेक रंजन, सुजीति वत्स, श्वेताभ सिंह, शिवराम पाण्डेय, अखिलेश मिश्रा, रश्मि शर्मा, यज्ञेश्वर वत्स, आलोक रंजन, अभिषेक तिवारी, प्रेयस ओम, आयुष अग्रवाल, सौरभ मिश्रा, निखिल गौर, दिनेश राजपुरोहित, शिवांगी पुरोहित की रचनाएं शामिल हैं।


किताब पाथेय प्रकाशन द्वारा लाई गई है, जबकि युवा लेखिका शिवांगी पुरोहित ने इसे संपादित किया है।

आर्डर करने के लिए दिए लिंक पर जाएं : https://amzn.to/3pi6hZL