सिमुलतला की पहचान विश्वस्तरीय हो यह सुनिश्चित करने का दायित्व सभी का : नीरज - gidhaur.com : Gidhaur - गिद्धौर - Gidhaur News - Bihar - Jamui - जमुई - Jamui Samachar - जमुई समाचार

Breaking

A venture of Aryavarta Media

Post Top Ad

Post Top Ad

Tuesday, 21 September 2021

सिमुलतला की पहचान विश्वस्तरीय हो यह सुनिश्चित करने का दायित्व सभी का : नीरज

सिमुलतला/जमुई (Simultala/Jamui) | प्रीतम कुमार [Edited by: Sushant] : महापुरुष स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekanand) के पावन पांव सिमुलतला की जिस पवित्र धरा पर पड़े उस सिमुलतला की पहचान विश्व स्तरीय हो, यह सुनिश्चित करने का नैतिक दायित्व सभी संबंधितों से लेकर शासन-प्रशासन तक का है। उपरोक्त बातें रविवार को ग्राम भारती सर्वोदय आश्रम सभागार में सिमुलतला सिविल सोसाइटी के तत्वाधान में आहूत एक संगोष्ठी में राष्ट्र कवि रामधारी सिंह दिनकर स्मृति न्यास के अध्यक्ष नीरज कुमार ने कही। बुद्धिजीवियों, शिक्षाविदों एवं समाजवादियों की जमात वाली उक्त संगोष्ठी खास तौर पर स्वामीजी से जुड़ी सिमुलतला की विभिन्न बहुमूल्य धरोहरों के संरक्षण की बावत विचार-विनिमय को लेकर आहूत की गई थी।

मौके पर श्री कुमार ने जोर देकर कहा कि उनके समेत उनका पूरा संगठन इस मुहिम में सन्निहित हो चुका है और इसी कड़ी में उनके न्यास के लोगों ने सिमुलतला पहुंच कर सिमुलतला में स्वामी जी से जुड़े हरेक स्थान व पहलू का अवलोकन व अध्ययन किया है। कहा ,मैंने  सिमुलतला वासियों के साथ संकल्प लिया है कि सिमुलतला में जिस-जिस स्थल पर भी स्वामी जी के श्रीचरण पड़े थे उक्त पावन धरा पर स्मारक की संरचना के अलावा स्वामी विवेकानंद सर्किट में सिमुलतला को भी सम्बद्ध करने, यहां अंतराष्ट्रीय स्तर का पुस्तकालय और स्वामी विवेकानंद शोध एवं योग संस्थान की स्थापना भी हो। साथ ही सिमुलतला में उनसे संबंधित लाइट एंड साउंड प्रोग्राम एवं वैदिक विद्यालय की भी स्थापना हो।

उन्होंने बताया की गांधी जी ने आह्वान किया था कि जहां जहां स्वामी जी गए है वहां जाना और वहां से कुछ लेकर ही आना चाहिए। न्यास अध्यक्ष की मानें तो आगामी फरवरी-मार्च माह में देश के पर्यटन मंत्री जे.किशन रेड्डी तथा बिहार के उप मुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद के साथ-साथ देश के दो सौ से ज्यादा विद्वान इस पावन धरा पर उपस्थित होंगे। उक्त दौरान तीन दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया जाएगा।

उन्होंने क्षेत्रवासियों से अपील की कि वे  11 हजार पोस्टकार्ड देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को प्रेषित कर सिमुलतला में स्वामी विवेकानंद से जुड़ी बहुमूल्य धरोहरों के संरक्षण व इसकी विशिष्ट वैश्विक पहचान की बावत लिए गए हमारे संकल्प से उन्हें अवगत कराएं। साथ ही उक्त संकल्प को अमली जामा पहनाए जाने का निवेदन करें। कार्यक्रम में प्रसिद्ध कवि विजय रामरतन सिंह ने अपनी भावनाओं को कविता के माध्यम से उड़ेलते हुए रमणीक स्थल सिमुलतला का बहुत ही सुंदर चित्रण किया।

कार्यक्रम को जमना बेन पुरस्कार से अलंकृत व्योवृद्धा सरला बहन, ईश्वर प्रेरणा लोक के अध्यक्ष विनोद सिंह, समाजसेवी सह अधिवक्ता अजित कुमार, कवि सह संस्कृति कर्मी नरेंद्र कुमार निपुरिया, समाजसेवी सूर्या वत्स, नव युवक संघ के संयोजक गौरव सिंह राठौर, अजित कुशवाहा ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम का संचालन कुमार विमलेश व आलोक राज सिंह ने संयुक्त रूप से किया। धन्यवाद ज्ञापन ग्राम भारती सर्वोदय आश्रम सिमुलतला की संस्थापक सह यमुना बेन पुरस्कार से सम्मानित सरला बहन ने किया।

कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत महात्मा गांधी के चित्र पर पुष्पांजलि व दीप प्रज्ज्वलन से किया गया। कार्यकर्म के उपरांत नीरज कुमार के द्वारा क्षेत्र के कई लोगों को बाल गंगाधर तिलक द्वारा रचित गीता भेंट किया गया। कार्यक्रम में निवर्तमान पंसस सदस्य उदय सिंह गौरा, डा.दिलीप पंडित, विनोद बरनवाल, प्रवेश कुमार विक्की, प्रदीप सिंह, ध्रुव सिंह, आशीष कुमार, रणवीर सिंह, बिक्की कुमार, अजय कुमार आदि के साथ बड़ी संख्या में क्षेत्र के गणमान लोग उपस्थित थे।

Post Top Ad