Breaking News

गिद्धौर : रतनपुर में कृषि सलाहकार ने अपने पिता पर किया जानलेवा हमला, स्थिति गम्भीर, वीडियो वायरल

 【 News Desk | अभिषेक कुमार झा 】 :-

जमीन-जायदाद, राज-पाठ और सत्ता को लेकर पिता-पुत्र के रिश्ते में टकराव की कहानियों से हमारा इतिहास और मिथिहास भरा हुआ है, वहीं, आज के दौर में इस नजदीकी रिश्तों के बीच की गरिमा और संवेदनशीलता भी कम होती दिख रही है। ताज़ा मामला गिद्धौर प्रखण्ड क्षेत्र के रतनपुर गांव से उद्दत है जहां एक ज्येष्ठ पुत्र द्वारा अपने पिता पर जानलेवा हमला किये जाने का वाक्या मंगलवार को सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना रहा।

अस्पताल में भर्ती पूर्व सैनिक  ◆ gidhaur.com

संकलित जानकारी अनुसार, रतनपुर निवासी भूतपूर्व सैनिक श्याम कुमार राय के साथ उनके ज्येष्ठ पुत्र धीरेंद्र कुमार की अनबन किसी बात को लेकर हो गई, जिसमे आवेश में आकर उसने अपने पिता पर जानलेवा हमला कर दिया, इससे वे घायल हो गए। बताया जाता है कि, पिता और ज्येष्ठ पुत्र के रिश्ते में पहले भी सम्पत्ति व अन्य घरेलू मामले को लेकर कटुता देखी जा रही थी। इसी क्रम में ज्येष्ठ पुत्र ने अपनी निजी स्वार्थ के लिए अपने ही पिता की बर्बरतापूर्ण पिटाई कर गला दबाया । इस जानलेवा हमले से श्री राय की स्थिति बेहद बिगड़ गई। शोर-शराबा होने पर कनिष्ठ पुत्र विक्रम कुमार विक्रांत ने पिता की जान बचाई और बिगड़ते हालत को देखते हुए उन्हें एक नीजि अस्पताल में भर्ती कराया जहां उनका इलाज किया जा रहा है, जहां उनकी स्थिति नाजुक बताई जा रही है।
यहां गौरतलब है कि, पिता के जान का दुश्मन बना ज्येष्ठ पुत्र धीरेन्द्र कुमार गिद्धौर प्रखंड में कृषि सलाहकार के पद पर काबिज हैं। घटना के शिकार हुए भूतपूर्व सैनिक श्री राय की गम्भीर स्थिति में एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है जहां उन्होंने इस हालत के लिए अपने बड़े बेटे को दोषी ठहराया है। उनकी पत्नी कलावती देवी ने वीडियो में बताया है कि यदि कोई अप्रिय घटना होती है तो उसके लिए पूर्णतः उसके बड़े पुत्र जिम्मेदार होंगे। वीडियो में स्पष्ट किया गया है कि आये दिन मारपीट-गाली गलौज ज्येष्ठ पुत्र के आदतों में शुमार हो गई है। इधर, अपना पक्ष रखते हुए कृषि सलाहकार धीरेंद्र कुमार ने कहा है कि द्वेष और साजिश के तहत वीडियो वायरल किया गया है । साथ ही बताया कि मारपीट का आरोप पूर्णतः गलत व निराधार है।
वहीं, सँवादवाहकों की माने तो, आरोपित ज्येष्ठ पुत्र पर कृषि विभाग व कुछ राजनीतिक हकीमों की विशेष मेहरबानी बताई जाती है जिसके संरक्षण में मामले को लीपापोती करने का प्रयास किया गया, पर सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो ने कृषि सालहाकर के हर प्रयासों पर पानी फेर दिया।

 

◆ माता-पिता के संग दुर्व्यवहार करने वाले जाएंगे जेल , प्रस्ताव पर लगी सीएम की मुहर

बिहार सरकार द्वारा कराए गए एक सर्वे में इस बात का खुलासा हुआ कि राज्य में रहने वाले बुजुर्ग माता-पिता की हालत ठीक नहीं है, कुछ के प्रति उनके बच्चे गैर जिम्मेदार हैं तो कुछ अभिभावक अपने बच्चों के कोप-भाजन बन रहे हैं। इस पर बिहार सरकार ने एक बड़ा फैसला किया है, जिसके मुताबिक मां-बाप के साथ दुर्व्यवहार करने पर अब बच्चों को जेल जाना पड़ेगा। सीएम नीतीश कुमार ने जून 2019 में आयोजित कैबिनेट की बैठक में इस प्रस्ताव को मंजूरी दी थी, जिसमें कहा गया है कि अगर बिहार में रहने वाले बच्चे अपने मां-बाप का तिरस्कार करते हैं या उनके साथ दुर्व्यवहार करते हैं तो उन्हें जेल जाना पड़ेगा। राज्य सरकार ने माना है कि ऐसे मां-बाप जिनके बच्चे उनके साथ दुर्व्यवहार करते हैं उनको कानूनी संरक्षण प्रदान करना राज्य सरकार की जिम्मेदारी है। अब इस प्रकरण में राज्य सरकार के इस प्रस्ताव का कितना अनुसरण किया जाता है , इसका परिणाम तो भविष्य के गर्भ में है, पर फिलहाल प्रशासनिक गतिविधियां शिथिल दिख रही है।