Breaking News

खैरा : बंद रखने के आदेश के बावजूद सोमवारी पर खुले मन्दिर, उमड़ी भीड़

 

Khaira / खैरा (प्रहलाद कुमार) :- कोरोना संक्रमण को लेकर मंदिरों को बंद रखने के आदेश हैं, लेकिन खैरा प्रखंड क्षेत्र में प्रशासनिक पदाधिकारियों की लापरवाही के कारण पहली सोमवारी पर कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाई गई. न सिर्फ मंदिरों के पट खुले रहे बल्कि बड़ी संख्या में भी भीड़ लगी, मेला भी लगा और जमकर कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाई गई. गौरतलब है कि कोरोनावायरस संक्रमण को रोकने को लेकर पूरे राज्य भर में सभी धार्मिक स्थलों को बंद रखने का निर्देश है. ऐसे में सावन के सोमवारी को लेकर जिले के सभी मंदिरों को बंद रखा जाना था. पर प्रशासनिक पदाधिकारियों ने गाइडलाइन का अनुपालन कराने की बजाय ऐसी लापरवाही दिखाई जिसका नतीजा कोरोना संक्रमण के एक बड़े विस्फोट के रूप में भी देखने को मिल सकता है. दरअसल प्रखंड क्षेत्र के सभी धार्मिक स्थलों में सोमवार को भारी भीड़ उमड़ी. बड़ी संख्या में लोगों ने भगवान भोलेनाथ का जलाभिषेक किया. एक तरफ लोगों में धार्मिक आस्था को लेकर काफी उत्साह देखने को मिला, तो वहीं दूसरी तरफ कोरोना को लेकर बड़ी लापरवाही सामने आई. प्रखंड क्षेत्र के गिद्धेश्वर नाथ मंदिर, झिकुटिया महादेव मंदिर, खैरा शिवालय सहित कई अन्य धार्मिक स्थलों में हजारों की संख्या में लोग एकत्रित हुए. लोगों के चेहरे पर नजर आया और ना ही लोग सामाजिक दूरी का अनुपालन करते नजर आए. प्रखंड विकास पदाधिकारी सहित कोई भी प्रशासनिक पदाधिकारी इन मंदिरों में नजर नहीं आए. जिसका नतीजा यह रहा कि मंदिरों में बड़ी संख्या में दुकानें भी लगी. चाट पकौड़ी के ठेले भी लगे और मेला का स्वरूप बनाकर लोग घूमते भी नजर आए. ऐसे में कोरोना संक्रमण को रोकने को लेकर प्रखंड प्रशासन अपनी जिम्मेदारियों के प्रति कितना उदासीन है इसकी एक बानगी सोमवार को देखने को मिली.