Header Ad

header ads

खैरा पुलिस के संरक्षण में चल रहे बालू कारोबार का FIR में हुआ खुलासा

 



Khaira / खैरा. (प्रहलाद कुमार) :- थाना क्षेत्र के भौंड गांव से आए एक आवेदन ने पुलिस प्रशासन की हरकतों से पर्दा हटा दिया है। उक्त आवेदन के बाद पुलिस संरक्षण में चल रहे बालू कारोबार का कच्चा चिट्ठा खुलकर लोगों के सामने आ गया है। दरअसल, भौंड गांव निवासी रामभजजो यादव नामक व्यक्ति ने थाना में प्राथमिकी दर्ज कराने को लेकर आवेदन दिया है. अपने दिए आवेदन में उसने बताया कि गांव निवासी मुकेश यादव पिता सुकुमार यादव, सुकुमार यादव पिता रघु यादव, सकेन्द्र यादव पिता रघु यादव, गुल्की यादव पिता रघु यादव बालू का कारोबार करते हैं और मेरे घर के सामने मेरे निजी रास्ते पर उन्होंने बालू डंप कर है, जिससे हमारे घर का निकास अवरुद्ध हो गया है। जब मैंने उनसे ऐसा करने से मना किया तब उन लोगों ने मेरे साथ मारपीट की एवं गाली गलौज किया है। उन लोगों ने मुझे जान से मारने की धमकी भी दी है। राम भज्जू यादव ने मामले में पुलिस से कार्रवाई करने की गुहार लगाई है. अब सवाल ये उठता है कि जब जिले में बालू उठाव पर पूर्ण तरीके से प्रतिबंध लगाया गया है ऐसे में इस तरह खुलेआम बालू का कारोबार किए जाने और बीच सड़क पर बालू डंप किए जाने की घटनाओं के बाद भी पुलिस चुप क्यों है। हालांकि सूत्रों की मानें तो प्रखंड क्षेत्र में अवैध रूप से बालू का कारोबार पुलिस के संरक्षण में ही चल रहा है. बालू कारोबारियों को पुलिस का संरक्षण प्राप्त है. सूत्र यह भी बताते हैं कि थाना से बाहर दुर्गा मंदिर के समीप बने हवन चबूतरा पर प्रतिदिन संध्या काल में बालू कारोबारियों का जुटान होता है. जहां पुलिस पदाधिकारी उनसे डील करते हैं. हालांकि इन सभी आरोप की कोई पुष्टि तो नहीं हो सकी है लेकिन इस तरह की घटनाओं ने पुलिस की कार्यशैली पर प्रश्न चिन्ह अवश्य लगा दिया है और सवाल यह उठ खड़ा हुआ है कि आखिर बालू कारोबार पर पुलिस लगाम क्यों नहीं लगा पा रही. या सच में कहीं अवैध बालू कारोबारी पुलिस संरक्षण में ही इन सब घटनाओं को अंजाम तो नहीं दे रहे हैं. फिलहाल देखना यह होगा कि पुलिस इस मामले में किस तरह से कार्रवाई करती है।



EDITED BY : Abhishek Kr. Jha



#Khaira, #Police, #GidhaurDotCom