Breaking News

गिद्धौर ग्रामीण क्षेत्र या शहरी? प्रशासन खुद कन्फ्यूज्ड, दूसरे लॉकडाउन के पहले दिन 10 बजे ही हो गया बाजार बंद

गिद्धौर/जमुई (Gidhaur/Jamui) | सुशान्त : कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण से बचाव के मद्देनजर बिहार (Bihar) में जारी लॉक डाउन (Lockdown) की अवधि जो 15 मई को समाप्त हो रही थी, उसे 10 दिन और बढ़ा दिया गया है। अब बिहार में 25 मई तक पूर्ण लॉक डाउन (Complete Lockdown) रहेगा। सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने उच्चस्तरीय बैठक की और 13 मई को सोशल मीडिया (Social Media) के माध्यम से इसकी जानकारी दी।

लॉक डाउन की अवधि बढ़ाने के साथ-साथ इसके नियमों में भी कुछ बदलाव किया गया है। जिसमें प्रमुख रूप से शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में दुकानों के खुलने-बंद होने के समय में बदलाव किया गया है। शहरी क्षेत्र में सब्जी, अंडे, मांस-मछली की दुकानें सुबह 8 बजे से 10 बजे तक खुलेंगी, जबकि ग्रामीण इलाकों में 12 बजे तक खुली रहेंगी। अत्यावश्यक श्रेणी में शामिल दुकानें शहरी क्षेत्र में सुबह के 6 बजे से 10 बजे तक खुली रहेंगी, जबकि ग्रामीण क्षेत्र में सुबह 8 बजे से 12 बजे तक दुकानें खुली रहेंगी। बाकी पाबंदियां पूर्ववत लागू रहेंगी।

इस बाबत शुक्रवार, 14 मई को जमुई डीएम अवनीश कुमार सिंह (Jamui DM Avaneesh Kumar Singh) ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस (Press Conference) कर लॉक डाउन के दूसरे चरण में दुकान खुलने-बंद होने के समय की जानकारी दी थी। डीएम ने बताया था कि शहरी क्षेत्र की दुकानें सुबह 6 से सुबह 10 बजे तक खुलेंगी। जबकि ग्रामीण क्षेत्र की दुकानें सुबह 8 बजे से दोपहर 12 बजे तक खुलेंगी।

लॉक डाउन के दूसरे चरण की शुरुआत रविवार, 16 मई से हो गई। पहले दिन गिद्धौर बाजार (Gidhour Market) में असमंजस की स्थिति बनी और बाजार के दुकान सुबह 6:30 बजे तक खुल गए। वहीं दिन के 10:30 बजे तक दुकानों के शटर गिरा दिए गए और बाजार में वीरानगी छा गई। गिद्धौर (Giddhaur) बाजार शहरी क्षेत्र में है या ग्रामीण क्षेत्र में, दुकानदार और ग्रामीण इस बारे में भी चर्चा करते रहे।

इस बारे में जानने के लिए जब गिद्धौर प्रखंड प्रमुख शम्भू कुमार केशरी से दूरभाष पर बात हुई तो उन्होंने बताया कि सम्भव है कि गिद्धौर को बाजार मानते हुए शहरी क्षेत्र की समयावधि लगाई गई हो और इसलिए शहरी क्षेत्र के दुकान खुलने-बंद होने के समय को लागू किया गया हो। प्रखंड के गांवों के बाजार ग्रामीण क्षेत्र में शामिल किए गए हों।

बताते चलें कि गिद्धौर बाजार पतसंडा पंचायत क्षेत्र के अंतर्गत आता है। इसलिए लॉक डाउन के दूसरे चरण की समय सीमा के बारे में शंका दूर करने के लिए जब पतसंडा पंचायत की मुखिया संगीता सिंह के प्रतिनिधि गुरुदत्त प्रसाद से दूरभाष पर बात हुई तो उन्होंने बताया कि कई दुकानदारों ने भी समयावधि को लेकर उन्हें कॉल किया है। चूंकि गिद्धौर बाजार पतसंडा पंचायत क्षेत्र के अंतर्गत आता है, ऐसे में यहाँ ग्रामीण क्षेत्र के लिए निर्धारित समय लागू किया जाना चाहिए। लेकिन शायद प्रखंड सह अंचल कार्यालय होने के कारण हो सकता है यहाँ शहरी क्षेत्र का समय लागू किया गया हो। इस बारे में बीडीओ साहब से बात कर के क्लियर करेंगे।

वहीं स्थानीय दुकानदारों से बात करने पर जानकारी मिली कि लॉक डाउन के दूसरे चरण के लिए लागू निर्देश 16 मई से प्रभावी होने थे, लेकिन सीएम नीतीश कुमार ने 13 मई को ही लॉक डाउन की अवधि बढ़ाये जाने की जानकारी दे दी थी और सरकार द्वारा बदले गए नियम भी जारी कर दिए गए थे, ऐसे में स्थानीय प्रशासन द्वारा अगले ही दिन 14 मई से गिद्धौर बाजार के दुकानों को सुबह 10 बजे तक बंद करवाया जाने लगा। गिद्धौर बाजार के एक दुकानदार ने नाम नहीं लिखने की शर्त पर बताया कि शुक्रवार, 14 मई से ही स्थानीय प्रशासन द्वारा 10 बजते ही घूम-घूम कर बाजार बंद करवा दिया जा रहा है।

खैर यह तो प्रशासनिक स्तर पर कन्फ्यूजन का दृश्य नजर आ रहा है। गिद्धौर शहरी क्षेत्र में है या ग्रामीण क्षेत्र में यह जानने की लालसा गिद्धौरवासियों की भी बढ़ गई है। गिद्धौर बाजार में लगभग बीस गांवों के लोग आवश्यकता के सामानों की खरीददारी करने आते हैं। ऐसे में बाजार खुलने-बंद होने का अब भी निश्चित समय नहीं होने की वजह से दुकानदारों के साथ-साथ ग्राहकों को भी बहुत परेशानी होनी शुरू हो गई है।