Breaking News

अलीगंज के दरखा गांव में वैशाखी दुर्गा की प्रतिमा स्थापित, पट खुलेते ही दर्शन को जुटे भक्त

 


 Aliganj / अलीगंज (चन्द्रशेखर सिंह ) :-

 अलीगंज प्रखंड के दरखा गांव में लगभग एक सौ वर्षो से वैशाखी दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर बडे ही धूम धाम से माता की पूजा अर्चना किया जाता है। बड़ी संख्या में इलाके से लोग माता की पूजा अर्चना करने यहां आते है। अष्टमी के पट खुलने के बाद तीन दिनों तक सभी चीजें की दुकान झुला व खेल तमाशा की दुकानें सजी रहती थी। लेकिन इस बार वैश्विक महामारी कोरोना को लेकर पूजा समिति के द्वारा सादे समारोह में माता की पूजा अर्चना किया जा रहा है, जिसमें शोसल डिस्टनसिंग को ध्यान में रखते हुए किया जा रहा है। किसी प्रकार की खेल तमाशा की दुकानें नहीं लगाई गई है।  पुजा समिति के द्वारा मंदिर परिसर में शोसल डिसटेनसिग को लेकर बेरिकेटिग कर बारी-बारी से महिलाओं शोसल डिसटेनसिग का पालन करते हुए माता की पूजा कर रही है। माता की भव्य प्रतिमा बनाई गई है। 


 लाकॅडाउन का दिख रहा असर


 अचानक देश भर में आई आफत ने पुरे देश में तबाही लाकर खड़ा कर दिया है।लगातार दुसरी बार लाकॅडाउन की घोषणा कर दी गई है। सभी मंदिर व सरकारी व गैर कार्यालय को भी 25 मई तक बंद कर लाकॅडाउन की घोषणा कर दी गई है। इसलिए इस बार माता की पुजा अर्चना में भी फीकी नजर आ रही है। विजय दशमी के दिन इलाके से बड़ी संख्या में लोग माता की पूजा अर्चना करने आते थे। लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण की बढ़ते प्रकोप को देखते हुए सब पर पानी फिर गया है।


शताब्दी पूर्व से स्थापित की जा रही है प्रतिमा 


एक सौ वर्षो से वैशाखी दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर गांव के ही स्व. जगदीशचंद्र पाण्डेय के द्वारा पुत्र प्राप्ति को लेकर एक मिन्नत मांगे थे, जो पूर्ण होने पर वैशाखी दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर पांच वर्षो तक अकेले पूजा अर्चना किया। उसके बाद से गांव वाले सभी मिलकर आज तक पुजा कर रहे है। 


 इलाके में प्रसिद्ध है माता का यश


दरखा की वैशाखी दुर्गा माता की प्रसिद्ध इलाके में प्रसिद्ध है। यह जिले ही नही बल्कि पुरे बिहार में अकेला गांव है जहां वैशाख महीने में दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर बड़े हर्षोल्लास के साथ माता की पूजा अर्चना की जा रही है। मनोकामना पूर्ण करने को लेकर इलाके में प्रसिद्ध है। लोगों का ऐसा मानना है कि लोग जो सच्ची नेक इरादा के साथ मन में रखते है जो निश्चित रूप से पुरा होती है। ग्रामीण समाजसेवी सह अधिवक्ता शशिशेखर सिंह मुन्ना , नगीना चंद्रवंशी, अशोक कुमार, त्रिलोकी पासवान, बच्चु पंडित बताते है कि माता की यश काफी प्रसिद्ध है और जो लोग श्रद्धा भाव से मिन्नत मांगते है उनकी मुरादें पूर्ण होती हैं।


Edited by : Abhishek Kr. Jha

#Aliganj, #Religious, #GidhaurDotCom