Header Ad

header ads

गिद्धौर : चैत्र शुक्ल प्रतिपदा पर आरएसएस ने मनाया हिन्दू नववर्ष, भारतीय संस्कृति की दी जानकारी


गिद्धौर/जमुई (Gidhaur/Jamui) | सुशान्त : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayam Sewak Sangh) द्वारा मंगलवार को चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को हिन्दू नववर्ष के रूप में मनाया गया. इस आयोजन में शाखा परिवार के लोगों के साथ-साथ बच्चों और युवाओं ने भी हिस्सा लिया. बच्चों और युवाओं को भारतीय संस्कृति के बारे में आरएसएस (RSS) के कार्यकर्ताओं ने अहम बातें बताई. गिद्धौर अवस्थित अतिप्राचीन पंचमन्दिर (Panchmandir) परिसर में मंगलवार की सुबह भगवा ध्वज फहराकर आरएसएस ने हिन्दू नव वर्ष मनाया.
कार्यक्रम में मुख्य रूप से उपस्थित आरएसएस के जिला संघ संचालक अधिवक्ता प्रकाश भगत ने कहा कि मन, वचन, कर्म से हम सभी को एक जैसा होना होगा. सभी के लिए अनुशासन आवश्यक है. शाखा में राजनीतिक बातों पर नहीं बल्कि संघ और सामाजिक गतिविधियों पर चर्चा आवश्यक है. शनिवार को सफाई दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए. प्रत्येक व्यक्ति को यह देखना है कि समाज के लिए काम करने में सक्षम हैं या नहीं. वर्तमान परिस्थिति में कई कुरीतियां हैं. हिंसा का दौर चल रहा है. यह नियंत्रित तब होगा जब एक विचार के तरफ चलेंगे और संगठित होकर काम करेंगे. 
उन्होंने आगे कहा कि हिंदुओ को भाषा, प्रान्त, जाति के नाम पर तोड़ा जाता है. माधवराव सदाशिव गोलवलकर ने संघ को आगे बढ़ाया. उन्होंने चारों धाम के शंकराचार्य को एकजुट कर एक मंच पर लाया. उन्होंने तभी घोषणा की की कोई हिन्दू पतित नहीं है. हिन्दू समाज मे सभी हमारा अंग है, सब एक हैं. हमें जाती-बिरादरी के अंदर जो कुरीतियां हैं उन्हें हटाना है. महाराणा प्रताप ने सभी को संगठित किया. उन्होंने प्रारंभ किया कि सभी जातियों को एकजुट कर अपनी सेना तैयार की. अगर हम सब भी एक साथ होंगे तभी हिन्दू समाज संगठित होगा. हमें हिन्दू समाज की कुरीतियों और बुराइयों को दूर करना है. आज नववर्ष पर हमें अपने मित्रमंडली में सबको शुभकामनाएं देनी चाहिए. सबको बताना जरूरी है कि हिंदुओ का नववर्ष है.

श्री भगत ने कहा कि संघ राजनीतिक नहीं सांस्कृतिक संगठन है. हमें नववर्ष पर यह संकल्प लेना है कि हिन्दू समाज एकदूसरे के भाई हैं, सब एक हैं. इसका संकल्प लेंगे तभी आज का दिन मनाना सफल होगा. आज चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को प्रतिवर्ष नववर्ष मनाना है.
आरएसएस के गिद्धौर खंडकार्यवाह डॉ. संजय मंडल ने कहा कि राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ की स्थापना 27 सितंबर 1925 को विजयादशमी के दिन की गई थी. यह बहुत शुभ दिन माना जाता है. हिन्दू व्रत-त्योहार हिंदी तिथि के अनुसार ही मनाया जाता है. हिंदी पंचांग की शुरुआत चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से होती है. इसलिए हिन्दुओं को प्रतिवर्ष इस दिन नववर्ष मनाना चाहिए.

इस अवसर पर भाजपा बिहार प्रेस पैनल सदस्य मनीष पाण्डेय, गिद्धौर प्रखंड प्रमुख व् भाजपा नेता शम्भू कुमार केशरी, आरएसएस के सौरभ कुमार, नितीश कुमार, रजनीश कुमार, राकेश कुमार रावत, राहुल कुमार, शिवम कुमार, पप्पू यादव, शंकर यादव सहित कई अन्य कार्यकर्ता व् ग्रामीण मौजूद रहे.