Header Ad

header ads

गिद्धौर के ग्रामीण इलाकों में विभागीय आदेश के बाद भी खुले हैं शिक्षण संस्थान, कार्रवाई नहीं

न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा】:-

सामाजिक-आर्थिक सशक्तीकरण और आत्मनिर्भर ग्रामीण भारत के सपने में रोड़ा बन चुके कोरोना के दूसरे लहर से जन जीवन को पूरी तरह से प्रभावित कर दिया है। इसके प्रकोप को देखते हुए एक ओर जहां सरकार ने सभी प्रकार के शिक्षण संस्थानों को तय अवधि तक बंद रखने के निर्देश दिए है, वहीं गिद्धौर प्रखण्ड क्षेत्र के सुदूर ग्रामीण इलाकों में आदेशों के बाद कोचिंग सेंटर खोला जा रहा है। इस दौरान कोचिंग सेंटरों में संचालक कोविड नियमों की अवहेलना कर विभागीय आदेश पर पलीता लगा दिया है।

कुड़ीला गांव के एक कोचिंग से निकलते बच्चे ◆ gidhaur.com
  
इसकी बानगी गिद्धौर प्रखण्ड क्षेत्र के पूर्वी गुगुलडीह पंचायत अन्तर्गत कुड़ीला गांव के एक कोचिंग में भी देखने को मिली, जहां दर्जनों की संख्या में विद्यार्थी बिना मास्क और सोशल डिस्टनसिंग के पाये गए। पूछे जाने पर संचालक ने बताया कि वे विभागीय नियमों का पालन कर रहे हैं। ग्रामीण परिवेश में छात्र आज ही भर के लिए क्लास लेने आये थे, जिन्हें अब घर पर रहने को कह दिया गया है। 

यूं तो जिला शिक्षा पदाधिकारी ने सभी प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी को गतिविधियों की मॉनिटरिंग एवं दण्डात्मक कार्रवाई के निर्देश दिए हैं, बावजूद इसके अधिकारियों के आंखों में धूल झोंक ग्रामीण इलाकों के निजी शिक्षण केन्द्र पर सजने वाले विद्यार्थियों की महफ़िल में कोचिंग संचालक विभागीय आदेशों को ठेंगा दिखा रहे हैं। इधर,  प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी मो. शमशुल हौदा को जब इस मामले से अवगत कराया गया तो उन्होने विभागीय मापदण्डों का हवाला देते हुए इस दिशा में कार्रवाई की बात कही।