Header Ad

header ads

गिद्धौर : गंगरा घाट से हो रहे अवैध बालू उत्खनन से ग्रामीण आक्रोशित, की SP व DM से शिकायत

 【न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा】 :-

गिद्धौर थाना क्षेत्र के गंगरा नदी घाट से अवैध बालू उठाव को लेकर ग्रामीणों में रोष उफ़ान पर है। ग्रामीणों ने इसको लेकर जमुई जिलाधिकारी से लिखित आवेदन प्रेषित कर अवैध बालू उठाव के धंधे पर विराम लगाने की मांग की है । 

बालू ले जाने वाले मार्ग पर प्रदर्शन करते ग्रामीण   ◆ gidhaur.com
दर्जनों की संख्या में एकत्रित ग्रामीणों ने संयुक्त रूप से बताया कि रोजाना लगभग 20 की संख्या में ट्रैक्टर अवैध बालू का उत्खनन कर राजस्व को चूना लगा रहे हैं। बालू के इस अवैध धंधे में दो वर्ष पूर्व एक व्यक्ति की मौत दुर्घटना में हो गई थी।


[प्रशासनिक मिलीभगत से खतरे में नदियों का अस्तित्व, राजस्व को लग रहा चूना]

गिद्धौर पुलिस व झाझा पुलिस से माफियाओं के आपसी सांठगाठ पर आक्रोश जाहिर करते हुए ग्रामीणों ने बताया कि बालू उत्खनन से नदियों के अस्तित्व पर  संकट मंडरा रहा है, साथ ही देर रात तक ट्रक्टर से शोर से ग्रामीणों का नींद हराम है।  बताया जाता है कि,  गिद्धौर  थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाले गंगरा नदी घाट से अंधेरे का लाभ उठाकर बालू की बिक्री झाझा थाना क्षेत्र के विभिन्न गांवों में की जाती है।  ग्रामीण के द्वारा मौखिक सूचना स्थानीय प्रशासन को दिए जाने पर भी माफियाओं के हौसले बुलंद हैं। 

गुरुवार की देर रात्रि बालू ढुलाई कर झाझा थानाक्षेत्र की ओर जा रही ट्रैक्टर
वहीं, पुलिस महकमे के उदासीन कार्यशैली से क्षुब्ध होकर शुक्रवार को स्थानीय ग्रामीणों ने डीएम के नाम लिखित आवेदन प्रेषित कर करते हुए इस संदर्भ में ध्यान आकृष्ट कराकर इस दिशा कार्रवाई की मांग की है। बता दें, इसके पूर्व भी ग्रामीणों द्वारा 25 मार्च को पुलिस अधीक्षक कार्यालय में आवेदन सौंपकर क्षेत्र में चल रहे अवैध बालू के गोरखधंधे से संबंधित शिकायत की थी, बावजूद इसके अवैध बालू उठाव के गोरखधंधे पर लगाम लगता नजर नहीं आ रहा। 
                  यहां बता दें, गिद्धौर थाना क्षेत्र अंतर्गत गंगरा बालू घाट के अलावे कैराकादो घाट, कलाली घाट, महुली घाट, कुड़ीला घाट, नयागांव निचली छोर आदि जगहों से बदस्तूर हो रहे बालू के अवैध उठाव पर नियंत्रण लगाना नवपदस्थापित थानाध्यक्ष अमित कुमार के समक्ष चुनौती का पर्याय बन रहा है।