गिद्धौर के 67 विद्यालयों में 'प्रवेशोत्सव' के तहत 4466 बच्चे हुए नामांकित - gidhaur.com : Gidhaur - गिद्धौर - Gidhaur News - Bihar - Jamui - जमुई - Jamui Samachar - जमुई समाचार

Breaking

A venture of Aryavarta Media

Post Top Ad

Post Top Ad

Tuesday, 6 April 2021

गिद्धौर के 67 विद्यालयों में 'प्रवेशोत्सव' के तहत 4466 बच्चे हुए नामांकित

 Gidhaur / गिद्धौर (धनंजय कुमार 'आमोद') :- शिक्षा विभाग का विशेष प्रवेशोत्सव अभियान नौनिहालों के लिए राहत का अवसर लेकर आया। गिद्धौर  प्रखंड भर के 67 सरकारी विद्यालयों में शिक्षा विभाग द्वारा आयोजित प्रवेशोत्सव विशेष नामांकन अभियान ने कोरोना काल के बाद फिर से स्कूलों में शिक्षा के प्रति जान डाल दिया। बता दें,  मार्च 2020 से कोरोना  महामारी के चलते लगभग एक वर्ष तक प्रखंड के सभी विद्यालय में पठन-पाठन पूरी तरह से ठप रहा। ऐसे में प्रवेशोत्सव नामांकण अभियान चलाकर स्कूलों में शिक्षा को पुनः सवारने की कवायद शुरू कर दिया। वहीं, प्रवेशोत्सव विशेष नामांकन अभियान चलाकर प्रखंड के विभिन्न विद्यालयों के कक्षा एक से कक्षा 9 तक कुल 4466 बच्चों का नामांकन किया जा चुका है।  

गिद्धौर स्थित प्रखण्ड संसाधन केन्द्र ◆ gidhaur.com

गिद्धौर बीआरसी के संकुल समन्वयक मुरारी कुमार ने उक्त आशय की जानकारी देते हुए बताया कि प्रखंड के विभिन्न स्कूलों में विभिन्न कक्षाओं में बच्चों का नामांकन किया गया। इस अभियान की सफलता को लेकर शिक्षा विभाग ने पूरी ताकत झोंक दी थी। गांव-गांव, टोला-टोला सहित भट्ठा चिमनी पर बच्चों की खोज की गई। बच्चों के अभिभावकों को जागरूक किया गया। यहां तक की पंचायत प्रतिनिधि समिति सहित कई जिम्मेदार नागरिकों ने बच्चों को स्कूल तक पहुंचाया। श्री कुमार ने बताया कि कक्षा 1 से लेकर 9 तक में बच्चों का नामांकन लिया गया । शिक्षा विभाग के अनुसार, इसमें सबसे अधिक कक्षा एक में 1601 बच्चे व कक्षा नौ में 1128 बच्चों ने नामांकन लिया। 


[विभाग द्वारा दिये गए आंकड़े एक नजर में ]


कक्षा     -    नामांकित छात्र/छात्रा


एक      -     1601 

दो       -       347

तीन     -       205

चार     -       133

पांच      -       98

छः     -        812

सात     -        73

आठ    -        69

नौ      -      1128

 - - - - ------- - - - - -

कुल  -      4466

- - - - - - - - - - - - - -

ज्ञातव्य हो, कोरोना संक्रमण के कारण लंबे समय तक स्कूल बंद रहने से कई बच्चे स्कूल से बाहर हो गए थे। इसके अलावा दूसरे प्रदेशों से घर पहुंचे अभिभावकों को भी अपने बच्चे के प्रति शिक्षा की चिंता सता रही थी । लेकिन प्रवेशोत्सव अभियान के आगाज ने अभिभावकों के माथे से चिंता की लकीरें हटा दी।

Post Top Ad