Header Ad

header ads

गिद्धौर : कोसमा आहार का उजड़ा चमन, बदहाली की ओर रूख कर रहा CM का प्रोजेक्ट

न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा】 :-

विश्व में प्रकृति विमुख मानवीय गतिविधियों , विकास की असंतुलित अवधारणाओं एवं प्राकृतिक संसाधनों के अंधाधुंध दोहन के कारण पारिस्थिकीय असंतुलन का संकट संपूर्ण मानव जाति के लिए बन रहे एक गंभीर चुनौती से उभरने के लिए सरकार ने जल जीवन हरियाली योजना की शुरुआत की थी।

कोसमा आहर में शिरकत करते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ● फ़ाइल फोटो (10जनवरी 2020)

इस योजना का अवलोकन करने 10 जनवरी 2020 को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का काफ़िला गिद्धौर के बानाडीह पहुंची थी। इसी दौरान सीएम ने तकरीबन 3 करोड़ के आधा दर्जन योजनाओं का शिलान्यास किया गया था। पर इन योजनाओं में बरते गए भारी अनियमितता के फलस्वरूप आज बानाडीह की तस्वीर सरकार के इस योजना को मुंह चिढ़ा रही है। यूं कहें कि मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर सरकारी महकमे के अधिकारी द्वारा जितनी तेजी से बानाडीह के कोसमा आहर के आस-पास सूरत निखरी थी, उतनी ही तेज गति से बिगडी भी । 

कोसमा आहार जाने का मार्ग ◆10/01/2021

◆  केस स्टडी - 1 [आहार तक का मार्ग ध्वस्त]

योजना में अनियमितता इस कदर छाया रहा कि महज 5वे दिन ही पेवर्स ब्लॉक से बने आहार तक जाने वाला मार्ग ध्वस्त हो गया। दो चरणों में हुए पेवर्स ब्लॉक पथ का निर्माण कार्य ₹11,73,900/- की लागत से हुई थी, पर इसकी वर्तमान स्थित कोसमा आहार के खूबसूरती पर ग्रहण लगाती नजर आ रही है।

केस स्टडी -2 [ भ्रष्टाचार के दहलीज पर हरियाली बेदम]

मनरेगा के तहत उलाई बीयर बांध के किनारे दोनो तरफ वृक्षारोपण कार्य  ₹3,10,586 /- तथा प्राथमिक विद्यालय बानाडीह परिसर के चारो तरफ वृक्षारोपण कार्य  ₹3,10,586/- की लागत से करवाये गए थे, पर आज यहां भ्रस्टाचार के दहलीज पर हरियाली बेदम होती नजर आ रही है।

सिंचाई के लिए बने कूप की स्थिति

केस स्टडी - 3 [किसानों के खेत व सिंचाई हुई प्रभावित]

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना जलछाजन विकास के तहत सामुदायिक सिंचाई कूप का निर्माण कार्य  ₹3,90,900 की लागत से की गई थी , इसके अलावे किसानों के खेत में समुचित सिंचाई व्यवस्था के लिए योजनाओं को संधारित किया गया था। पर योजनाओं में अनियमितता के कारण आज उक्त प्रोजेक्ट पूरी तरह से ठप पड़ गया है। 

- सीएम द्वारा कोसमा आहार में क्रियान्वित योजनाओं की फ़ेहरिस्त व प्राक्कलित राशि -

★ -लघु सिंचाई विभाग जमुई द्वारा निर्मित कोसमा आहर का जीर्णोद्धार कार्य   -  ₹1,36,16,757

★. -लघु सिंचाई विभाग जमुई द्वारा निर्मित उलाई बीयर केनाल का जीर्णोद्धार कार्य  -  ₹1,48,10,000

★. -प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना जलछाजन विकास के तहत सामुदायिक सिंचाई कूप का निर्माण कार्य   -  ₹3,90,900

★. -मनरेगा अंतर्गत क्रियान्वयन उलाई बीयर बांध के किनारे दोनो तरफ वृक्षारोपण कार्य  -  ₹3,10,586

★. -मनरेगा अंतर्गत क्रियान्वित प्राथमिक विद्यालय बानाडीह रतनपुर परिसर के चारो तरफ वृक्षारोपण कार्य  -  ₹3,10,586

★. -मनरेगा अंतर्गत क्रियान्वित नवसृजित प्राथमिक विद्यालय बानाडीह के प्रांगण में स्थित चापाकल के निकट सोख़्ता का निर्माण कार्य  -  ₹22,500

★. -मनरेगा अंतर्गत उलाई बियर केनाल के किनारे स्थत कुंवा के नजदीक सोख़्ता का निर्माण  -  ₹14,000

★. -ग्राम पंचायत रतनपुर के पंचायत निधि से क्रियान्वित गरभु स्थान से अभिनन्दन पडित घर तक पेवर्स ब्लॉक का दो चरणों में निर्माण कार्य  - ₹11,73,900

★. -ग्राम पंचायत रतनपुर के पंचायत निधि से गरभु स्थान का सौन्दर्यकरण कार्य  -  ₹9,45,200

हालांकि, अनियमितता की नींव पर बने इन योजनाओं की वास्तविक तस्वीर सीएम के जाते ही सामने आ गयी थी, पर आज भ्रष्टाचार के नाम पर जीरो टोलरेंस की बात करने वाले सरकार के महकमे की आस्तीन में पल रहे अनियमितता के इस दास्तां ने सरकारी दावों की पोल खोल दी है। यदि सरकार व सरकारी महकमा विभागीय स्तर पर कोसमा आहार के सौंदर्यीकरण की पहल करे तो बानाडीह में विकास को एक नई दिशा और दशा मिल सकेगी।