बड़ी खबरें

गिद्धौर : धनियाठिका गांव में ताजिया खोलने वाले व्यक्ति के बच्चे की मौत, सड़क पर उतरे ग्रामीण


Gidhaur News | धनंजय कुमार 'आमोद' 】:-

 गिद्धौर थाना क्षेत्र के धनीयाठिका गांव में रविवार को ताजिया खोलने वाले व्यक्ति के बच्चे की हुई मौत के बाद माहौल तनावपूर्ण हो गया। 


एकत्रित जानकारी अनुसार, धनियाठिका गांव में प्रशासनिक आदेश व निर्देशन के अनुरूप, स्थानीय निवासी मो. अख्तर अंसारी ने अपने इमामबाड़ा में ताजिया स्थापित किया था। तभी वहां गिद्धौर अंचलाधिकारी रीता कुमारी ने शनिवार की संध्या पहुंचकर ताजिया को जबरदस्ती खोलने का निर्देश दे दिया। वहीं ताजिया खोलने गए मो. अख्तर अंसारी के 6 महीने के पुत्र (अम्न) की मृत्यु हो गयी। ताजिया खोलवाने से धर्मनिष्पेक्षता को ले आक्रोशित पूरा अल्पसंख्यक वर्ग सड़क पर उतर प्रदर्शन करते हुए उचित मुआवजे की मांग करने लगे।


- बोले ग्रामीण, सीओ ने की मनमानी  -

घटना स्थल पर मौजूद ग्रामीणों ने बताया कि सीओ की मनमानी से उक्त घटना घटी है। ग्रामीण लगातार सीओ से विनती कर रहे थे पर उन्होंने एक न मानी। ग्रामीणों ने बताया बिना ताजिया निकाले ही सीओ ने इसे खोलने का निर्देश दे दिया। सीओ के निर्देश पर ताजिया खोलने गए मो. अख्तर अंसारी के पुत्र (6माह) की रात में ही निधन हो गया। ग्रामीण इसे ताजिया खोलने का प्रकोप मान रहे थे। सड़क पर उतरे मुस्लिम वर्ग ने सीओ से माफी व इसके उचित मुआवजे की व ताजिया निर्माण की मांग पर डटे रहे।


 तीन थाने की पुलिस ने संभाला मोर्चा -

मामले को नियंत्रित करने के लिए मौके पर दल बल के साथ पहुंची गिद्धौर पुलिस , खैरा पुलिस व मलयपुर पुलिस ने ग्रामीणों के बीच शांति कायम रखने को ले मोर्चा संभाला। वहीं , इस मामले की जानकारी जिले के वरीय पुलिस पदाधिकारियों को मिलते ही वे घटनास्थल पर अंचलाधिकारी रीता कुमारी के साथ पहुंचे। 

 

  परिजनों के साथ प्रशासन ने की बैठक  

इधर, तूल पकड़ रहे इस मामले पर शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए स्थानीय प्रशासन व जिले से आये वरीय पुलिस पदाधिकारियों ने परिजनों व स्थानीय बुद्धिजीवियों के साथ बैठक कर समस्या के हल पर चर्चा की। तकरीबन 45 मिनट के इस बैठक में शामिल गिद्धौर थानाध्यक्ष आशीष कुमार, बीडीओ गोपाल कृष्णन, सीओ रीता कुमारी व जिले के वरीय पुलिस पदाधिकारियों में से एएसपी अभि. श्री सुधांशु ने परिजनो को समझ बुझाकर शांत करवाया व उनके हर शर्त पर अपनी मंजूरी दी। 


- तजिया के आगे नतमस्तक हुई सीओ, हर सम्भव मदद की हुई घोषणा -

वहीं, उग्र ग्रामीणों को शांत करने के लिए वरीय अधिकारियों के निर्देशन पर सीओ रीता कुमारी तजिया के आगे इमामबाड़े में नतमस्तक होते हुए सभी अल्पसंख्यक वर्ग के लोगों से क्षमा याचना की। सीओ ने सार्वजनिक रूप से मृत बालक के परिजन को आवास योजना, शौचालय, व अन्य सरकारी सहायता देने की घोषणा की। इसके बाद ग्रामीणों का आक्रोश थमा। इधर गिद्धौर सीओ रीता कुमारी के इस विनम्रता ने जिला प्रशासन की नाक कटने से बच गयी। 


 बुकार जैसे न हो घटना, डीएम ने दिए थे निर्देश -


बुकार व निमारंग जैसे साम्प्रदायिक सौहार्द न बिगड़े इसको लेकर डीएम धर्मेन्द्र कुमार ने सख्त निर्देश दे रखे थे। वहीं विधि व्यवस्था शांतिपुर्ण बनाये रखने के लिए सम्बंधित इलाके में मजिस्ट्रेट की तैनाती भी कर दी गयी है। इसके अलावे किसी भी क्षेत्र में जुलूस व अखाड़ा न निकले इसको लेकर भी सम्बंधित अधिकारियों को निर्देष दिये जा चुके थे। 


- बीडीओ के अगुवाई में कैराकादो गांव से शुरू हुआ प्रकरण -

प्रशासनिक सूत्र बताते हैं , शनिवार की संध्या कैराकादो गांव में बीडीओ गोपाल कृष्णन की अगुवाई में तजिया खोलवाने के लिए गिद्धौर थानाध्यक्ष व सीओ रीता कुमारी पहुंचे थे। कैराकादो गांव में तजिया खोलवाने के लिए गिद्धौर बीडीओ ने अलीगंज बीडीओ से भी बात की थी। कमोबेश यही प्रकरण धनियाठिका गांव में दोहराई गयी, जिसके बाद इस तरह के मामले सामने आए हैं। 

।  


 - अधिकारियों ने रखा अपना पक्ष -

 " मामले में गलती हुई तो सार्वजनिक रूप से माफी मांगी गई है। बच्चे की मौत जांच का विषय है। प्रशासनिक स्तर पर जो भी मुआवजा हो सकेगा वो पीड़ित परिवार को दिया जाएगा।  " 

     - रीता कुमारी,

 अंचलाधिकारी, गिद्धौर (जमुई)


 - - - - - -- -- - - -


 " शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए गिद्धौर पुलिस मोर्चा संभाले है। धनियाठिका गांव का माहौल सामान्य है। किसी भी स्थिति में सामाजिक सद्भाव को बिगड़ने नही दिया जाएगा। "

    - आशीष कुमार,

 थानाध्यक्ष, गिद्धौर (जमुई)


 जारी है धनियाठिका में प्रशासनिक चहलकदमी 

उक्त मामले को लेकर खबर लिखे जाने तक धनियाठिका गांव में प्रशासनिक महकमे की चहलकदमी तेज है। समय अंतराल पर अधिकरियों का आना जाना लगा है। गांव के चिन्हित स्थलों पर दल बल को तैनात कर दिया गया है।

No comments