Header Ad

header ads

गिद्धौर : क्वेरेंटिन सेन्टर में सुविधाओं का आडम्बर, प्रवासियों ने जताया रोष


 【न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा】-: 

सूबे के 37 जिले कोरोना के चपेट में आ चुके हैं। सिर्फ जमुई ही इसकी जद से दूर है। ऐसे में, विभागीय स्तर पर  संबंधित पदाधिकारियों को कोरोना संक्रमण को लेकर क्वेरेंटिन सेंटर पर समुचित सुविधाओं को बहाल करने को लेकर भी कई दिशा निर्देश दिए जा चुके हैं।


इसी क्रम में प्रवासियों के लिए गिद्धौर में बनाए गए क्वेरेंटिंन सेंटर में सुविधाओं के आडम्बर पर प्रवासियों की पीड़ा छलक उठी, जिससे गिद्धौर के एमसीवी मैदान में अवस्थित जिला शिक्षा प्रशिक्षण केंद्र में बनाये गये क्वेरेंटीन सेंटर पर दी जाने वाली सुविधा, प्रवासियों के लिए एक काले पानी की सजा साबित हो रही है।

गिद्धौर के इस क्वेरेंटिंन सेंटर के व्यवस्थाओं को आइना दिखाने वाला एक वीडियो को सोशल मीडिया पर भी तूल पकड़ रही है। वीडियो में प्रवासियों ने केंद्र में मिलने वाले सुविधाओं पर रोष जताया है। बताया कि इस सेंटर पर लगभग सैंकड़ों की संख्या में रह रहे लोगों को  घोर दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।  संक्रमण से बचाव को लेकर प्रसाशनिक अधिकारी न तो केंद्र पर साफ-सफाई की समुचित व्यवस्था पर ही  ध्यान दे रहे हैं , और न ही इन प्रवासियों को भरपेट भोजन ही यह नसीब हो पा रही है। उक्त समस्या को लेकर क्वेरेंटिंन सेंटर में रविवार को प्रवासियों ने प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ रोष व्यक्त किया।

- प्रवासियों ने gidhaur.com को सुनाई अपनी व्यथा -

प्रवासियों ने अपनी व्यथा सुनाते हुए नाम नहीं छापने की शर्त रखी। बताया कि गिद्धौर के क्वेरेंटिंन सेंटर पर उनलोगों के साथ अमानवीय व्यवहार किया जाता है। सेन्टर में भरपेट भोजन तो दूर यहां स्वच्छता का हाल भी बेहाल है। सुविधाओं के अभाव में क्षुब्ध होकर प्रवासियों ने कहा कि यदि केंद्र पर हमलोगों के लिए ससमय गुणवत्तापूर्ण भोजन नहीं दिया गया तो कोरोना से पहले हमलोग भूख से ही मर जायेंगे।

" प्रवासियों द्वारा लगाए गए आरोप असत्य है। केंद्र सभ्य रूप से संचालित हो रही है। प्रवासियों को भोजन के अलावे सभी समुचित व्यवस्था दी जा रही है। "
          - गोपाल कृष्णन
   प्रखंड विकास पदाधिकारी, गिद्धौर (जमुई)

विदित हो, विभाग से लेकर जिले प्रशासन द्वारा  ऐसे क्वरेंटिंन सेंटरों पर स्वच्छ्ता, सेनेटाइजेशन, डिग्निटी सेट पौष्टिक भोजन जैसे सुविधाओं के उपलब्धता की बात कही जाती है, लेकिन इस तरह के व्यवस्थाओं के बीच सवालों के कठघरे में खड़ा गिद्धौर क्वेरेंटिंन सेंटर प्रशासनिक महकमे से इंसाफ की मांग कर रही है