बड़ी खबरें

जमुई : CRPF के एक जवान द्वारा दिया जा रहा कोरोना जागरूकता संदेश

खैरा/जमुई [शुभम मिश्र] :
देखा जाता है कि देश की सीमा पर हमारे जवान जब रात को जगते है तो पूरे देशवासी रात में चैन की नींद सोते हैं।वो लाखों सितम झेलकर भी देशवासियों को उसकी खुशी एवं शांति देते हैं।बावजूद कुछ अलगाववादी समाज में अलगाव पैदा कर देश की शांति एवं एकता को खंडित करने का दुस्साहस करते हैं।

सेना का अर्थ ही होता है देश की सेवा करना,हर प्रकार की मुसीबतों में देश के प्रति अपनी कर्तव्यनिष्ठा का परिचय देना।चाहे हथियार से दुश्मनों का सामना करना हो या क़लम द्वारा अपनी अंतरात्मा की अभिव्यक्ति को लेखनी द्वारा प्रकट करना हो देशभक्ति तो झलक ही जाती है।
ऐसी ही कुछ वानगी जमुई जिले के खैरा प्रखंडान्तर्गत मांगोबंदर गांव में देखने को मिली।जहां के उदय कुमार मोदी जो वर्तमान में सी.आर.पी.एफ जवान के तौर पर लद्दाख में पदस्थापित हैं।कुछ दिन पूर्व अवकाश लेकर घर आये थे और लाॅकडाउन के कारण यहीं फंस गये।

इस बाबत उन्होंने बताया कि वो लाॅकडाउन का पूर्णतः पालन करते हुए सरकारी निर्देशों का भी अनुपालन कर रहे हैं और लोगों को भी निर्देशित कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि इस लाॅकडाउन में लोगों को जागरूक करने हेतु हमने एक कविता लिखी है ; जो इस प्रकार है :- 

कोरोना को हराना है

हम सब ने यह ठाना है,
कोरोना को हराना है। 
फेसमास्क लगाना है,
सीमित दूरी बनाना है।
लाॅकडाउन अपनाना है,
देश को बचाना है।
घर से बाहर नहीं जाना है,
स्वच्छता को अपनाना है।
साबून से बार-बार हाथ धोना है, 
हाथ चेहरे पर नहीं लगाना है।
संभव हो तो सेनेटाइजर लगाना है,
स्वच्छ शरीर बनाना है।
किसी से हाथ नहीं मिलना है,
दोनों हाथ जोड़ अपनाना है।
बचाव ही इलाज है,यह समझाना है,
कोरोना से नहीं घबराना है
सावधानी ही बचाव है,
देशहित में समझाना है।

अफ़वाह नहीं फैलाना है ,
न अफ़वाहों में आना है ।
बीमारी नहीं छिपाना है,
तुरंत अस्पताल जाना है।
संक्रमण नहीं फैलाना है,
मानव जीवन बचाना है।
हमसभी को कसम खाना है 
ये सभी बातें अपनाना है।
हमसब ने यह ठाना है,
कोरोना को हराना है।