बड़ी खबरें

गिद्धौर : पंचायत स्तरीय 4 क्वरेंटिंन सेंटर के प्रवासियों की हुई स्वास्थ्य जांच

गिद्धौर (न्यूज़ डेस्क) :- प्रखंड क्षेत्र में सरकार द्वारा अन्य प्रदेशों में फंसे प्रवासियों के घर वापसी के बाद उनके गांव लौटने का सिलसिला गिद्धौर प्रखंड में लगातार जारी है। विभागीय निर्देशानुसार इन लोगों से गांव वासियों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए पंचायत स्तर पर सरकारी विद्यालयों व भवनों में बने क्वरेंटिंन सेंटर में इनके भोजन व आवासन की व्यवस्था की गई है।

 बताते चलें कि प्रवासियों के घर लौटने को लेकर क्षेत्र के विभिन्न पंचायतों के ग्रमीण कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रभाव में आने के डर से शशंकित हैं , इसलिए जिला प्रसासन के निर्देश पर स्थानीय प्रसासन द्वारा सभी पंचायत के मुखिया प्रतिनिधियों को बाहरी राज्यों से घर लौटने वाले प्रवासियों के लिए सरकारी विद्यालयों एवं अन्य भवनों में क्वरेंटिंन सेंटर के बनाए जाने की व्यवस्था का निर्देश दिया गया था। कोरोना संक्रमण की ऐसी स्थिति से निपटने के लिए लोगों को इन क्वरेंटिंन सेंटर पर रखने की व्यवस्था की गई है, जिसके तहत बुधवार को प्रखंड के दिग्विजय सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के कोविड केयर यूनिट मेडिकल टीम ने क्षेत्र के विभिन्न गांवों का दौरा किया एवं पंचायत स्तर पर बने क्वरेंटिंन सेंटर पर जाकर अन्य राज्यों से लौटने वाले प्रवासियों के स्वास्थ्य की जांच की व उन्हें 21 दिनों के लिए इन क्वरेंटिंन सेंटरों पर क्वरेंटाइन किया गया। इस मौके पर स्वास्थ्य विभाग के दिग्विजय सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के कोविड केयर टीम के चिकित्सक डॉ. बिपल कुमार एनएम सुधा कुमारी, आशा उत्प्रेरक निधि कुमार आदि ने कोरोना संदिग्ध प्रवासियों की स्क्रीनिंग कर उनके स्वास्थ्य की जांच कर उन्हें इस वायरस के बारे में जानकारी दी एवं इससे बचाव का उपाय बताया,  इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी दिशा निर्देशों को इन्हें पालन करने की भी चिकित्सक द्वारा सलाह दी गयी। इस जांच क्रम के दौरान गंगरा के उत्क्रमित मध्य विद्यालय बरदघट्ठा सेंटर पर सूरत से लौटे 68 प्रवासी, प्रीतम टांड़ सामुदायिक भवन में ठहरे 07 प्रवासी, सेवा पंचायत के उत्क्रमित मध्य विद्यालय निचली सेवा में बैंगलुरू से आये 25 प्रवासियों, एवं उत्क्रमित उच्च विद्यालय निचली सेवा में मुंबई से आये 08 प्रवासियों एवं मौरा पंचायत के मध्य विद्यालय धनियाठिका सेंटर पर ठहरे 25 प्रवासियों की स्क्रीनिंग कर कोरोना से बचाव को लेकर उन्हें स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया।
बताते चलें कि कोरोना संक्रमण को लेकर जिले के सभी प्रखंडों को रेड जॉन घोषित कर दिया गया है. वहीं बाहरी राज्यों से आने वाले प्रवासियों से कोरोना संक्रमण का खतरा न बढ़ जाय इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम काफी सजगता के साथ क्षेत्र में स्वास्थ्य जांच कार्य मे लगी है।