बड़ी खबरें

सोनो : पल्स पोलियो की तर्ज पर डोर टू डोर सर्वे की हुई शुरुआत, लगाए गए 15 पर्यवेक्षक


SONO/News Desk (किशोर कुणाल) :- दूसरे राज्यों से आने वाले प्रवासियों को क्वॉरेंटाइन में रखने के लिए प्रवासियों को समूह ए, बी और सी में विभक्त किया गया है। अब समूह ए अर्थात दिल्ली, महाराष्ट्र, एनसीआर, गुजरात आदि रेड जोन से आने वाले प्रवासियों को ही प्रखंडस्तरीय क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा जाएगा।


इसके अतिरिक्त  अन्य राज्यों अर्थात समूह बी और सी से आने वाले प्रवासियों को 14 दिनों के लिए होम क्वॉरेंटाइन में रखा जाना है। प्रवासियों को होम क्वॉरेंटाइन में रखकर 14 दिनों तक प्रतिदिन उनका स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा। होम क्वॉरेंटाइन के दौरान अगर व्यक्ति में कोविड-19 संक्रमण से संबंधित कोई भी लक्षण परिलक्षित होता है तो पूर्व निर्धारित प्रक्रिया के तहत उसका सैंपल एकत्रित कर जांच एवं आवश्यकतानुसार चिकित्सकीय सेवा प्रदान किया जाएगा। सोनो में डोर टू डोर स्वास्थ्य परीक्षण व स्क्रीनिंग का काम गुरुवार से प्रारंभ हो गया। जानकारी देते हुए प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक जूही अल्का ने बताया कि विभाग द्वारा 240 प्रवासियों की सूची उपलब्ध कराई गई है जो होम क्वॉरेंटाइन में है। इनके डोर टू डोर सर्वे व स्क्रीनिंग के लिए फिलहाल पंद्रह पर्यवेक्षक लगाए गए हैं। प्रवासियों की संख्या बढ़ने पर पर्यवेक्षकों की संख्या बढ़ाई जाएगी। प्रवासियों के घर-घर सर्वे अभियान, पल्स पोलियो अभियान के तर्ज पर चलाए जा रहा है। 14 दिन परीक्षण के दौरान पर्यवेक्षकों द्वारा प्रवासियों के घरों में जाकर प्रतिदिन उनका स्क्रीनिंग किया जाएगा। साथ ही प्रवासी व्यक्तियों के घरों पर पर्यवेक्षक द्वारा होम क्वॉरेंटाइन से संबंधित पोस्टर चिपकाया जाएगा। उन्हें होम क्वॉरेंटाइन से संबंधित पंपलेट उपलब्ध कराई जाएगी। पर्यवेक्षक द्वारा 14 दिन तक चिपकाए गए पोस्टरों पर तिथि सहित हस्ताक्षर किए जाएंगे व दैनिक प्रतिवेदन विभाग को उपलब्ध कराया जाएगा। पर्यवेक्षकों को प्रवासियों की जांच, उनसे संबंधित रिपोर्ट, खुद की सुरक्षा संबंधी उपाय आदि की जानकारी दी गई। उन्हें मास्क, ग्लब्स आदि सुरक्षा उपकरण उपलब्ध करवाए गए।