बड़ी खबरें

जमुई : 'एक बेटी, एक पौधा' के नारे के साथ साइकिल यात्रा के सदस्यों ने किया पौधरोपण, बच्चों ने भी लगाए पौधे

जमुई : महिला और पौधा एक ही पहलू के दो पर्यावाची शब्द हैं. जिस प्रकार एक महिला के जिम्मे अपने परिवार का पूरा दायित्व होता है, उसी प्रकार पौधे का दायित्व अपने आस पास रह रहे लोगों को सुरक्षित जीवन देने का होता है. महिलाओं के सम्मान में रविवार को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर साइकिल यात्रा एक विचार मंच के साइकिल यात्रियों के समूह द्वारा 'एक बेटी, एक पौधा' के नारे के साथ जमुई प्रखंड कार्यालय परिसर से साईकिल यात्रा निकाली गई. यह यात्रा सतगामा, मलयपुर होते हुए 10 किलोमीटर दूर टेंगहरा ग्राम तक पहुंची. जहां मंच द्वारा अपनी यात्रा को यादगार बनाये रखने के लिए बेटियों के सम्मान में एक-एक पौधरोपण किया गया.

महिलाओं के प्रति सम्मान व्यक्त करते हुए मंच के सदस्य सचिराज पद्माकर ने कहा की जिस प्रकार महिलाएं अपने परिवार के परवरिश के लिए हमेशा तत्पर रहती है, उनका योगदान परिवार के प्रति अतुलनीय होता है, उसी प्रकार पौधे भी मानवों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए कई पीढ़ियों तक अपना योगदान देते हैं. 
मौके पर उपस्थित जीविका के जिला स्वास्थ्य प्रबंधक शेषनाथ राय ने बताया कि महिलाओं और पौधों का सम्मान हमें सदैव अपने जीवन में करना चाहिए. दोनो हमारे जीवन को बेहतर बनाते हैं और बदले में यह हमसे कुछ अपेक्षा नही रखते. इसलिए हमें भी इन्हें हमेशा सम्मान देना चाहिए.

रविवार की यात्रा में साइकिल यात्रा विचार मंच के सदस्य संदीप कुमार रंजन, विवेक कुमार, आकाश कुमार, रंधीर कुमार, विनय कुमार तांती, सचिराज पद्माकर, शेखर कुमार, शेषनाथ राय, शैलेश भारद्वाज, अजीत कुमार, शानु सिंह, सुधांशू सिंह एवं रौशन वर्णवाल सम्मिलित हुए.
इस दौरान स्थानीय ग्रामीण राजीव कुमार, संजय यादव, सुशील यादव, राजकुमार यादव, सुनील यादव, वीरेन्द्र यादव, मुनीलाल यादव, रवि यादव, मुकेश यादव, अशोक यादव सहित दर्जनों छोटे बच्चे टिंकू, मोनू, पूजा, सोनी, कोमल, विकाश, रोहन, कमलेश सहित कई अन्य लोग उपस्थित रहे.