बड़ी खबरें

गिद्धौर में 17वें दिन भी जारी है शिक्षकों का हड़ताल, जमुई में 5 को धरना

गिद्धौर (न्यूज़ डेस्क) :- बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के बैनर तले प्रखंड कोषाध्यक्ष सह सदस्य बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति,गिद्धौर प्रदीप रजक की उपस्थिति में बुुधवार को गिद्धौर प्रखंड मुख्यालय में शिक्षकों की अनिश्चित कालीन हड़ताल सत्रहवें दिन भी जारी रहा।


आगामी 5 मार्च को जिला मुख्यालय में होने वाले आक्रोशपूर्ण धरना प्रदर्शन के लिए शिक्षकों को जागरूक करने के लिए विभिन्न प्रखंडों के दौरा करने के क्रम में गिद्धौर प्रखंड के शिक्षकों को संबोधित करते हुए जिला महासचिव मंडल सदस्य सह जिला महासचिव जयप्रकाश पासवान ने कहा कि बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति,बिहार के आह्वान पर कल 5 मार्च को जिला मुख्यालय जमुई में होने वाले आक्रोशपूर्ण धरना प्रदर्शन अभूतपूर्व होगा,उन्होंने कहा सरकार के दमनकारी कार्रवाई से शिक्षक डरने वाले नही है। वहीं शिक्षकों को संबोधित करते हुए राजीव वर्णवाल एवं बशिष्ठ यादव ने कहा कि सरकार की करवाई से शिक्षकों की हड़ताल और उग्र हो चुकी है जो पूर्ण वेतनमान मिलने तक जारी रहेगी।वही बैठक को संबोधित करते हुए कैलाशपति यादव ने कहा कि कल जमुई में होने वाले आक्रोशपूर्ण धरना में गिद्धौर से 200 शिक्षक भाग लेंगे। धरना प्रदर्शन की अध्यक्षता सुशील सिंह जबकि कार्यक्रम संचालन कैलाशपति यादव ने किया। धरना प्रदर्शन में चकाई के सुरेश चंद्र यादव,तुलसी पासवान,उपेंद्र शर्मा,ब्रजेश सिंह, उमाशंकर प्रसाद, रंजीत यादव, मुरारी गुप्ता,मंटू मंडल, अवधेश कुमार पप्पू, दयानंद साव,कुमार परवेज, धर्मेंद्र पासवान, शिवदानी कुमार, दीपक सिंह, अजय पासवान, संतोष पासवान, नागेंद्र नाथ,सुनील कुमार, रामकुमार तिवारी, सुशील रजक, आदित्य कुमार,धर्मेंद्र शर्मा,संगीता कुमारी,संजय ठाकुर,व्यास यादव,शक्तिधर कुमार, संजय रजक,छोटेलाल रविदास, जयकांत सिंह, सुनैना कुमारी,सौरभ कुमार,संतोष सिंह,संगीता कुमारी,व्यास यादव,कुमार राजीव रंजन, रवि कुमार रवि, राजवंश केशरी, शशिभूषण सिंह, प्रदीप प्रभाकर, प्रेमनाथ केशरी, राहुल कुमार, अरुण मंडल, सुधा कुमारी,रावत निर्मला देवी,देविका सिंह, सजर आलम, ज्योत्सना, विनीता कुमारी,बेबी देवी, मुन्नी कुमारी, अरुण यादव,रेखा कुमारी,रीता कुमारी, रावत निर्मला इंद्रदेव,जयप्रकाश पंडित, तरन्नुम कौसर , मीनाक्षी कुमारी, शिप्रा कुमारी आदि उपस्थित थे।