Header Ad

header ads

गिद्धौर प्रखंड मुख्यालय में पदाधिकारी व कर्मी के मनमाफिक रवैये से ग्रामीण परेशान


गिद्धौर (न्यूज़ डेस्क) -  :  ग्रामीण इलाकों में सरकार से जुड़े विकासात्मक योजनाओं से निचले पायदान पर जीवन बसर कर रहे ग्रामीणों को जनकल्याणकारी योजनाओं से लाभान्वित करने के लिए प्रखंड मुख्यालय स्तर पर विभागीय पदाधिकारीयो को कई आवश्यक दिशा निर्देश दे रखी है, लेकिन हैरत की बात तो यह है कि सरकार के लोकहितकारी व्यवस्थाओ से आमजनों को लाभान्वित करने के लिए स्थानीय स्तर पर विभागीय कार्यशैली से क्षेत्र में विकास का मार्ग लोगों के लिए अवरुद्ध हो गया है, इसकी बानगी गिद्धौर प्रखण्ड मुख्यालय में देखी जा रही है, जहां के पदाधिकारी का 10: 30 बजे भेंट नहीं और बारह बजे लेट नहीं के तर्ज पर विभागीय कार्यशैली से आमजन त्रस्त हैं।
परिसर में पसरा सन्नाटा
जब बुधवार को संवाददाताओं द्वारा ग्रामीणों की शिकायत पर पड़ताल की गई तो लगभग विभागों के अधिकारी व कर्मी ड्यूटी से नदारद दिखे। सुबह 10 बजकर 35 मिनट पर बीडीओ गोपाल कृष्णन का कार्यालय बंद, इंदिरा आवास कार्यालय बंद पाया गया, व प्रखंड कार्यालय में कार्यरत कर्मचारी नदारद मिले। इसकी वजह से प्रखंड भर के लाभुक व ग्रामीण प्रखंड के बाबुओं की अपने अपने कार्यालय में आने की बाट जोहते नजर आये। वहीं,अंचल कार्यालय का आरटीपीएस काउंटर भी बंद पाया गया, जिससे छात्रों को आवसीय, आय एवं जाति प्रमाण पत्र लेने के लिए काउंटर खुलने का इंतजार करते नजर आये।
RTPS काउंटर खुलने की प्रतीक्षा करते आवेदक
बताते चले कि आये दिन प्रखंड मुख्यालय में कार्यरत कर्मियों की मनमानी पूर्ण रवैये की वजह से प्रखंड के सुदूर इलाकों के ग्रामीण को अपने अपने कार्य के लिए सुबह से शाम हो जाता है, लेकिन इनकी समस्याओं से प्रखंड के बाबुओ को कोई मतलब ही नहीं है।