Header Ad

header ads

गिद्धौर : यहां रसोईया पद पर बने रहने के लिए मांगी जा रही है अवैध राशि



न्यूज़ डेस्क| अभिषेक कुमार झा】:-

शिक्षा विभाग में अनियमितता का मामला पूरे विभाग को शर्मशार करती है। ताजा मामला गिद्धौर प्रखंड के कोल्हूआ पंचायत का है जहां मध्य विद्यालय धोबघट के संत सिंह की पत्नी विनीता देवी पिछले पाँच वर्षों से रसोईया पद पर विद्यालय में कार्य कर रही थी, जिसके बाद  अस्वस्थ होने की वजह से सिर्फ 5 दिनों की अनुपस्थिति में ही मध्य विद्यालय के मध्याह्न भोजन प्रभारी शिक्षक प्रमोद सिंह ने उन्हें सेवा मुक्त करने का फरमान जारी कर दिया।


उक्त मामले में पीड़िता विनीता देवी ने प्रखंड विकास पदाधिकारी से पत्राचार कर न्याय की गुहार लगाई है। पत्र के अनुसार, विनीता देवी पिछले 5 वर्षों से उक्त विद्यालय में रसोईया के पद पर कार्यरत थी, 5 दिनों की छुट्टी के बाद जब वो विद्यालय पहुंची तो प्रभारी प्रधानाध्यापक ने अनगिनत अनुपस्थिति दिखाकर सेवा मुक्त हो जाने का हुक्म सुना दिया, जिससे पीड़ित को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
पत्र में जिक्र किया गया है कि पुनः पद पर बने रहने के लिए  नजराने के तौर पर 7500 रुपये की मांग की गई। नौकरी बचाने के लिए कर्ज लेकर पीड़ित ने 7500 रुपये प्रमोद सिंह को दिया। अब उनके टालमटोल वाले रवैये से पीड़िता उदासीन बनी हुई है।
इधर, पीड़ित ने अपनी दास्तां बयां करते हुए बताया है कि उनके पति मानसिक रूप से बीमार हैं, आजीविका न रहने पर उनके बच्चों के पालन पोषण में परेशानी हो रही है। बीडीओ को लिखे गए आवेदन में पीड़िता विनीता देवी ने शिक्षक प्रमोद सिंह के विरुद्ध जांच एवं कार्यवाही की मांग करते हुए पुनः रसोईया पद पर कार्य करने की गुहार लगाई है।  पत्र की प्रतिलिपि जिलाधिकारी जमुई, जिला शिक्षा पदाधिकारी जमुई, एवं  प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी गिद्धौर, को भी प्रेषित की गई है।

  *- - - बोले अधिकारी - - -*

इस सन्दर्भ में पूछे जाने पर बीडीओ गोपाल कृष्णन ने कहा कि मामला संज्ञान में नहीं है। इस संदर्भ में कोई भी आवेदन प्राप्त नहीं हुआ है। आवेदन मिलने पर मामले की जांच की जाएगी। "

 - - -   - - -
प्रखण्ड एमडीएम प्रभारी आमिर दास ने कहा कि मामले से अनभिज्ञ हूँ।विद्यालय में 4 रसोइया पदस्थापित हैं। सभी का भुगतान नियमित रूप से किया जा रहा है। अगर इस तरह के मामले संज्ञान में आते हैं तो जांचोपरांत विभागीय स्तर पर कार्रवाई की जाएगी।  "