बड़ी खबरें

गिद्धौर में प्रतिदिन हो रही है अखंड जल की बर्बादी, प्रतिनिधि उदासीन



【न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा】 :-

सरकारी स्तर पर एक ओर जहां जल संरक्षण के लिए लोगों को जागरूक करने का काम युध्दस्तर पर जारी है, तो वहीं दूसरी ओर विभागीय अधिकारी की लापरवाही के कारण रोजाना हजारों लीटर पेयजल की अखंड बर्बादी हो रही है।


तस्वीर गिद्धौर दुर्गा मंदिर से बाजार जाने वाले रास्ते के बीच मे विभागीय स्तर पर लगाए लगे नल की है, जिसका नल तोड़ दिए जाने से रोजाना हजारों लीटर जल की अखंड बर्बादी हो रही है। नल जल योजना के तहत लगाए गए इस नल की हालत सिर्फ यहीं नहीं गिद्धार के कई हिस्सों में इस नजारा दिखना आम है पर न तो इसपर विभाग का ध्यान है और न ही जनप्रतिनिधियों का।


सरकारी कागजों पर कार्यपूर्ति का ढिंढोरा पीटने वाले अधिकारियों के उदासीन रवैये पर नाराजगी व्यक्त करते हुए ग्रामीण बताते हैं कि कई दफा अपने पैसे से नल को लगते हैं, पर गिद्धौर के इस सार्वजनिक स्थल पर पानी की रोज हो रही बर्बादी को देखने वाला कोई नहीं है। जनप्रतिनिधि भी उदासीन बने हुए हैं। अब, लोगों के मन मे सवाल उठ रहा है कि सरकारी महकमे द्वारा छेड़े गए जल-संरक्षण की मुहिम के बावजूद भी इस अखंड जल की बर्बादी का आखिर जिम्मेदार कौन है?