बड़ी खबरें

जमुई DM बोले, जिले में बनने वाली ऐतिहासिक मानव श्रृंखला में भागीदारी हो सुनिश्चित



अलीगंज (चन्द्र शेखर सिंह) :-

जल जीवन हरियाली के समर्थन तथा दहेज उन्मूलन व बाल विवाह के रोक थाम को लेकर 19 जनवरी को
बनने वाले मानव श्रृंखला को लेकर बीआरसी कैम्पस में शुक्रवार को जिलाधिकारी धर्मेद्र कुमार ने लोगों को जागरूक करते हुए कहा कि जल है तो जीवन है, अगर जल नही तो ये जीवन नही संभव नही रहेगी, जब हरियाली है तो जल है। हर लोगों से पेड पौधें लगाने की अपील करते हुए कहा कि इसी को लेकर 19 जनवरी को जमुई सहित पुरे राज्य में हाथ जुडेगी।जिसमें जमुई एक ऐतिहासिक मानव श्रृंखला का निर्माण करने जा रही है, जिसमें जन-जन की भागीदारी सुनिश्चित हो।


बता दें कि जिलाधिकारी जमुई धर्मेन्द्र कुमार बाईक (बुलेट) स्टेडियम से चलकर अलीगंज पहुंचे थे और मानव श्रृंखला का निर्माण करने में लोगों से बढ़-चढकर सहयोग करने की बात को दोहराते हुए अपने रिश्तेदारों व सगे-संबंधियों को भी मानव श्रृंखला में भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए प्रेरित किया। जिलाधिकारी ने कहा कि जिले में सबसे कम बारिश इस्लामनगर अलीगंज प्रखंड में हुई है। यह लोगों को चेतावनी दे रही है। जल जीवन हरियाली को प्रखंड क्षेत्र में सबसे पहली प्राथमिकता दे। उन्होंने अधिकारियों को भी चेतावनी देते हुए कहा कि जल जीवन हरियाली योजना  में कोई भी शिकायत हुई तो संबंधित कर्मी व अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कारवाई भी किया जाएगा।  अनुमंडल पदाधिकारी लखिन्द्र पासवान ने कहा कि जल के बिना कुछ भी संभव नही है। एसडीपीओ रामपुकार सिंह ने कहा कि मानव श्रृंखला जल जीवन हरियाली से जुडी हुई है।सामाजिक चेतना लाकर ही हम जल जीवन हरियाली की सुरक्षा कर सकते हैं। इसलिए अधिक से अधिक संख्या में पौधरोपन करें तथा वृक्ष कटाई पर रोक लगायें और मानव श्रृंखला के निर्माण को सफल बनायें । प्रखंड विकास पदाधिकारी मो. शमशीर मलिक ने बताया कि प्रखंड जन जागरूकता अभियान चलाकर लोगों को जागरूक किया जा रहा है। प्रखंड में 19 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला का निर्माण करने की रोड मैप तैयार है। जिले में यह प्रखंड जल जीवन हरियाली,दहेज उन्मूलन तथा बाल विवाह रोक थाम के लिए विशाल मानव श्रृंखला बनाई जाएगी। धन्यवाद ज्ञापन  मुखिया मनोज कुमार सिंह ने किया। मौके पर प्रखंड कृषि पदाधिकारी नागेन्द्र पूर्वे ,बीईओ मो कमरूद्दीन अंसारी के अलावे जीविका कर्मी,आंगनवाड़ी सेविका के अलावे शिक्षक/शिक्षिकाए के अलावे बड़ी संख्या में गणमान्य लोग मौजूद थे ।