बड़ी खबरें

सेवा : जर्जर सड़क को लेकर आक्रोशित ग्रामीणों की बैठक, प्रखंड कार्यालय के घेराव का लिया निर्णय

[सेवा | शुभम् कुमार] :

एक तरफ राज्य सरकार जहाँ सात निश्चय योजनांतर्गत विकास के बड़े-बड़े वादे कर रही है, प्रधानमंत्री सड़क योजना अंतर्गत रोडमैप के बड़े-बड़े खाके दिखाए जा रहे है। वही इसके इतर यदि सेवा से गिद्धौर स्टेशन भाया गिद्धौर बाजार को जोड़ने वाली सड़क का हाल देखा जाय तो ये सरकार के सारे वादे को कोसती नजर आ रही है। इसे सरकार की लचर व्यवस्था कहे या फिर विभागीय लापरवाही कि कई दफा ग्रामीणों द्वारा सांसद महोदय, विधायक और जिलाधिकारी के समक्ष आवेदन के माध्यम से ये बातें रखी गई पर अबतक प्रतिक्रियाएं बेअसर रही।
इन्हीं सारे मुद्दों को लेकर रविवार को सेवा के पुरानी पंचायत भवन के परिसर में ग्रामीणों द्वारा एक बैठक का आयोजन रखा गया और यह निर्णय लिया गया कि 7 जनवरी को सभी ग्रामीणों द्वारा एकजुट होकर गिद्धौर प्रखंड कार्यालय का घेराव किया जाएगा और जल्द से जल्द सड़क निर्माण की मांग करेंगे।
बैठक में उपस्थित बुद्धिजीवी सौदागर कुमार सागर ने कहा कि हम ग्रामीणों ने कई दफा सड़क को लेकर जिलाधिकारी और संसद महोदय से मुलाकात की लेकिन अबतक आश्वासन के सिवा कुछ नही मिला, अब हमें घेराव और विरोध जैसे कठोर कदम उठाने को बाध्य किया जा रहा है। वही नवलकिशोर साव ने कहा कि सड़क गड्ढो में तब्दील हो चुकी है जिसके कारण कई दफा दुर्घटनाएं होती रहती है लेकिन विभागीय व्यवस्था लगातार इसकी अनदेखी कर रहे है, इसलिए हमसभी 7 जनवरी को प्रखंड कार्यालय का घेराव करने को विवश है।
शिक्षक ललन कुमार ने कहा कि जहाँ सड़क विकास के मूलभूत आधार में से एक माना जाता है, वहीं सड़क की ऐसी बदतर हालत से हमारा गांव विकास के राह से काफी पीछे जा रहा है, जल्द सड़क का निर्माण हो इसके लिए अग्रेतर करवाई आवश्यक है। समाजसेवी रामचंद्र पासवान ने कहा कि सड़क निर्माण कार्य जल्द से जल्द शुरू हो इसलिए हमें विवश होकर प्रखंड कार्यालय का घेराव करना पड़ रहा है। 
इस मौके पर शिक्षक संतलाल साव, रंजीत साव, सूरज कुमार (चिंटू), गणेश यादव, सुधीर पासवान, बासुकी साव, सुभाष यादव, गुलाबी कुमार पाल, अर्जुन साव, संजय रविदास, वसंत साव, नंदू साव, सुरेश यादव, रविन्द्र, रंजन गुप्ता सहित दर्जनों ग्रामीणों ने सरकार की सुप्त व्यवस्था को लेकर नाराजगी प्रकट की और जल्द से जल्द सड़क निर्माण कार्य आरंभ करने की मांग की।