रतनपुर पहुंची साईकिल यात्रा की टीम, पर्यावरण संरक्षण के लिए जीविका दीदियों को किया प्रेरित - gidhaur.com : Gidhaur - गिद्धौर - Gidhaur News - Bihar - Jamui - जमुई - Jamui Samachar - जमुई समाचार

Breaking

A venture of Aryavarta Media

Post Top Ad

Post Top Ad

Sunday, 8 December 2019

रतनपुर पहुंची साईकिल यात्रा की टीम, पर्यावरण संरक्षण के लिए जीविका दीदियों को किया प्रेरित

तनपुर/गिद्धौर [सुशान्त साईं सुन्दरम] :
महज़ चार सदस्यो के समूह द्वारा अपने मनोबल को बरकरार रखते हुए पर्यावरण संरक्षण के लिए चलाई जा रही लगातार मुहिम के 205वें यात्रा के क्रम में जिला मुख्यालय से 14 किलोमीटर दूर जमुई सदर प्रखंड से साईकिल यात्रा निकली। यह यात्रा खैरमा, कटौना, हरनारणपुर होते हुए गिद्धौर प्रखंड के रतनपुर गांव पहुँची। इस अवसर पर रतनपुर के ग्रामीणों एवं जीविका कर्मियों द्वारा जीविका के सदस्यों को हर घर दो पौधा लगाने की अपील की गई। इस क्रम में साईकिल यात्रियों द्वारा लाये गए 30 पौधों का रोपण भी किया गया।
साईकिल यात्रा का नेतृत्व करते हुए विनय कुमार तांती ने बताया की देश उन्नति की राह पर द्रुत गति से दौड़ रहा है इसमें कोई शक नहीं, परन्तु इस दौड़ में हम अपनी प्राकृतिक संपदाओं को जिस प्रकार समाप्त करने में लगे हुए हैं वह अवश्य ही चिंता का विषय है। उनके द्वारा बताया गया कि इसी गति से यह प्रदूषण बढ़ता रहा तो वह दिन दूर नहीं जब चीन अमेरिका जैसे विकसित देशों की भांति वातावरण में विभिन्न हानिकारक गैस की मात्रा बढ़ने से साँस लेने में होने वाली कठिनाई से बचने के लिए मास्क लगाकर चलना पड़ेगा।
मौके पर उपस्तिथ रतनपुर ग्राम के सुहाना, चंपा और बेली स्वयं सहायता समूह की जीविका दीदियों को गिद्धौर प्रखंड के प्रखंड परियोजना प्रबंधक धर्मवीर कुमार ने प्रेरित करते हुए कहा कि पर्यावरण बचाने के लिए भारतीय महिलाएँँ वैदिक काल से ही पर्यावरण संरक्षण की पक्षधर रही हैं। इसलिए घरों में तुलसी, केले का पौधा होना, कई पौधों का पूजन करना हमारे पर्यावरण और संस्कृति के हिसाब से लगातार जुड़ाव बना हुआ है। महिलाएं प्रतिदिन सुबह सूर्य को अर्घ्य देती हैं, चन्द्रमा का पूजन, जल का पूजन, भूमि पूजन सहित पर्यावरण संरक्षण कार्य हमारे जीवन को स्वस्थ बनाने के लिए महत्वपूर्ण पहलू थे, परंतु बदलते सामाजिक मूल्य, घटते मानवीय मूल्य, वैश्वीकरण एवं आधुनिकता की आड़ में हम पर्यावरण को निरन्तर प्रदूषित करते जा रहे हैं। पेड़ हमारी जरूरत है, इसे महसूस करते हुए उसे सुरक्षित रखने से परहेज कर रहे हैं। किन्तु आज पुनः हमें अपनी संस्कृति की ओर लौटकर पर्यावरण को संरक्षित करना होगा।
इस अवसर पर मंच के सदस्य विवेक कुमार, रणधीर कुमार, विनय कुमार तांती एवं शेखर कुमार सहित जीविका की रूपा देवी, सुनीता देवी, अनिता देवी, तिलोत्तमा देवी, प्रदीप कुमार वर्मा, बच्चन रजक,चंद्रदीप कुमार, विनोद पांडेय, सोनू झा, गोपाल पांडेय, अभिषेक झा, आनंदी कुमार, शत्रुधन कुमार सहित कई ग्रामीण उपस्थित थे।

Post Top Ad