बड़ी खबरें

गिद्धौर PHC : रात्रि में कर्मी रहते हैं नदारद, कोविड केयर यूनिट में राम भरोसे 8 संक्रमित



Gidhaur News / धनंजय कुमार 'आमोद' 】:-

बिहार सरकार के महकमे में इन दिनों स्वास्थ्य विभाग के गैर जिम्मेदाराना तस्वीर उभर कर सामने आ रहे हैं। इसकी बानगी गिद्धौर स्थित दिग्विजय सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (Gidhaur PHC) में भी देखी जा सकती है। आलम यह है कि यहां रात ढलते ही चिकित्सीय कर्मी नदारद हो जाते हैं।


बतातें चले, इस कोरोना (Corona) महामारी के नियंत्रण को लेकर जिला स्वास्थ्य विभाग (Health Department) द्वारा कोरोना संदिग्ध मरीजों की बेहतर चिकित्सा के लिए कोविड हेल्थ केयर यूनिट (Covid Health Care Unit Gidhaur ) गिद्धौर पीएचसी को ही बनाया गया है, जहां 24 घंटे कोरोना मरीज की जांच हेतु चिकित्सक दल व स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा की उपस्थिति होनी चाहिए। लेकिन ऐसे सेन्सिटिव वक्त में स्वास्थ्य कर्मियों व चिकित्सकों की लापरवाही गिद्धौर के इस स्वास्थ्य केन्द्र में कुव्यवस्था व प्रबंधन के घोर उदासीनता का परिचायक बन रही है।

- ओंन स्पॉट पड़ताल करने पहुंचे संवाददाता -

अस्पताल से जुड़े विधि व्यवस्था की ऑन द स्पॉट पड़ताल करने बुधवार की रात 8:30 बजे gidhaur.com संवाददाता सहित एक दैनिक अखबार के संवाददाता (Reporter) जब गिद्धौर पीएचसी में पहुंचे तो अस्पताल परिसर में गार्ड अनूप कुमार सिंह, महाराज यादव, मनोज कुमार सिंह व सफाई कर्मी सुनीता देवी, मायावती देवी एवं चालक अजीत कुमार व रमन कुमार ही मुस्तैद दिखे। बाक़ी स्वास्थ्य कर्मियों की अनुपस्थिति ने गिद्धौर पीएचसी (Gidhaur PHC) की व्यवस्था को बेपर्दा कर दिया।



 रात में पसर जाता है सन्नटा, 8 संक्रमित हैं भर्ती 

 वहीं गार्ड, सफाई कर्मी एवं चालक कर्मियों  ने कैमरे के आड़ में बताया पिछले एक सप्ताह से पीएचसी में ड्यूटी पर लगे स्वास्थ्य कर्मी रात्रि पहर में नदारद ही रहते हैं। अस्पताल में बना कोविड हेल्थ केयर व उसमें भर्ती कोरोना मरीज भगवान भरोसे ही रात गुजारते  है । जबकि अस्पताल परिसर में बने कोविड हेल्थ केयर यूनिट में अभी 8 कोरोना मरीज भर्ती है। ऐसी स्थिति में रात में स्वास्थ्य कर्मियों का ड्यूटी पर मौजूद नहीं रहने के कारण कोरोना संदिग्ध मरीज को रात्रि अगर कोई परेशानी हुई तो देखने वाला कोई नहीं। एक व्यक्ति की मौत के बाद भी गिद्धौर पीएचसी प्रबंधन ने सबक नहीं ली।

क्या कहते हैं अधिकारी -

" अपने स्तर से मामले की जांच पड़ताल कर ड्यूटी से गायब स्वास्थ्य कर्मियों के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही होगी। "     - 
                डॉ. राम स्वरूप चौधरी, 
प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, गिद्धौर पीएचसी

विदित हो जहां एक ओर पूरा सूबे इस कोरोना संक्रमण काल मे स्वास्थ्य व्यवस्था पर ही आश्रित है वहीं दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग की ऐसे गौर जिम्मेदार तस्वीर ने गिद्धौर पीएचसी के व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी है।