जमुई : बानपुर गांव पहुंची साईकिल यात्रा, पौधरोपण कर पर्यावरण के प्रति किया जागरूक - gidhaur.com : Gidhaur - गिद्धौर - Gidhaur News - Bihar - Jamui - जमुई - Jamui Samachar - जमुई समाचार

Breaking

A venture of Aryavarta Media

Post Top Ad

Post Top Ad

Sunday, 23 April 2023

जमुई : बानपुर गांव पहुंची साईकिल यात्रा, पौधरोपण कर पर्यावरण के प्रति किया जागरूक

जमुई (Jamui), 23 अप्रैल 2023। रविवार को साईकिल यात्रा एक विचार के सदस्यों ने लगातार 381वीं यात्रा के क्रम में जमुई प्रखण्ड परिसर से निकलकर कचहरी मार्ग, भछियार, गरसंडा, दाबिल गांव होते हुए बानपुर ग्राम तक की  यात्रा पूर्ण की गई। इस दौरान ग्रामीण निवासी मुहम्मद इरशाद के निजी भूमि पर फल के पौधों का पौधा रोपन किया गया।

सक्रिय सदस्य राजीव कुमार ठाकुर ने ग्रामीण बच्चों को इकट्ठा कर के पौधों से परिचय करवाना और पौधों से मिलने वाले अनेकों उपहार से रूबरू करवाया उत्साहपूर्वक बच्चों में एक एक पौधा वितरण किया गया सभी बच्चों ने एक एक पौधा बचाने का संकल्प लिया।

इस मौके पर साइकिल यात्रा एक विचार के सदस्य राजीव कुमार ठाकुर ने कहा कि लगातार काटे जा रहे पेड़ों के कारण वातावरण में ऑक्सीजन की मात्रा लगातार कम होती जा रही है। इसके विपरीत वातावरण में घुल रहे जहर से धरती आग का गोला बनता जा रहा है। ऑक्सीजन की कमी से वातावरण में हुए भारी फेरबदल से ओजोन परत में होल हो गया है, जिससे सूरज की पराबैंगनी किरणें सीधे पृथ्वी तक पहुंच रही हैं और गर्मी का स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है। यहां तक कि ग्लोबल वार्मिग को लेकर परिणाम दिखाई भी देने लगे हैं। यदि समय रहते नहीं चेता गया तो वो समय दूर नहीं जब पृथ्वी एक आग का गोला बनकर रह जाएगी और यहां जीवन की संभावनाएं दूर-दूर तक खत्म हो जाएंगी।
वहीं सदस्य आकाश कुमार ठाकुर ने ग्रामीणों को जागरूक करते हुए कहा कि ग्लोबल वार्मिग से बचने का केवल एक मात्र उपाय यह है कि बिना समय गंवाए अधिक से अधिक संख्या में पौधारोपण किया जाए। हालांकि निकट भविष्य में कम और इसके दूरगामी परिणाम अधिक साबित होंगे। असल में वृक्ष अपने पत्ते और छाल पर हवा में मौजूद प्रदूषक गैसों नाइट्रोजन ऑक्साइड, अमोनिया, सल्फर डाइऑक्साइड को अवशोषित कर लेते हैं। यहां तक कि पराबैंगनी किरणों को भी ये अवशोषित कर धरती पर पड़ने से रोकते हैं। जरूरत इस बात की है कि निकट भविष्य के खतरे को भांपते हुए हम आगे आएं वृक्ष लगाएं और दूसरों को भी पौधा रोपण के लिए जागरुक करें।

आकाश ने आगे कहा कि अच्छे काम की शुरुआत पहले खुद से होती है। इसलिए सबसे अच्छा यह होगा कि पहले हम पौधा रोपण को लेकर संकल्प लें और फिर तय करें कि हमें एक साल में कितने पौधे लगाने हैं। यही नहीं इसके साथ अपने परिजनों को भी संकल्प दिलवाएं और पौधा रोपण में सहयोग करें। पौधा रोपण को लेकर इस तरह से आप अपने मोहल्ले, गांव व कालोनी में एक मिसाल बन सकते हैं और औरों के लिए प्रेरणा श्रोत भी।
उन्होंने आगे कहा कि अक्सर देखा गया है कि विभिन्न तरह के अभियान आदि या फिर किसी के कहने में आकर हम पौधारोपण तो कर दे देते हैं, लेकिन कुछ दिन बाद हमें याद भी नहीं रहता कि हमने कभी कोई पौधा भी लगाया था। पौधारोपण का मतलब केवल पौधा लगाने भर से ही पूरा नहीं हो जाता। पौधारोपण का मतलब है कि आप बच्चे की ही तरह पौधे को पूरे मन व संकल्प के साथ गोद लें। जिस तरह से हम अपने बच्चे के खाने पीने और तमाम छोटी-छोटी जरूरतों का ख्याल रखते हैं। उसी तरह पौधे को सींचने से लेकर उसको बड़ा करने तक की जिम्मेदारी भी हमें उठानी होगी तब जाकर असल रूप में पौधारोपण का उददेश्य पूरा होगा।

इस यात्रा में साइकिल यात्रा एक विचार के सदस्य आकाश कुमार ठाकुर, बीपीन कुमार, संजय कुमार,राजीव कुमार, ग्रामीण सोहैल खान, एज़ाज़ खान, मुजम्मिल खान, अयान खान, ज़ीशान खान सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

Post Top Ad