जमुई : गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज का निरीक्षण करने पहुंचे डीएम, फैकल्टी की भूमिका में आए नजर - gidhaur.com : Gidhaur - गिद्धौर - Gidhaur News - Bihar - Jamui - जमुई - Jamui Samachar - जमुई समाचार

Breaking

A venture of Aryavarta Media

Post Top Ad

Post Top Ad

Tuesday, 22 November 2022

जमुई : गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज का निरीक्षण करने पहुंचे डीएम, फैकल्टी की भूमिका में आए नजर

जमुई (Jamui), 22 नवंबर : डीएम अवनीश कुमार सिंह मंगलवार को गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज का निरीक्षण किया। इस दरम्यान वे सभी कक्षा में गए और वहां पठन - पाठन की उपलब्ध व्यवस्थाओं का समीप से अवलोकन किया। समाहर्त्ता कक्षा भ्रमण के क्रम में वहां अध्ययनरत विद्यार्थियों से रूबरू हुए और उन्हें राष्ट्र के निर्माण में अहम भूमिका निभाने का पाठ पढ़ाया। वे यहां विद्वान फैकल्टी की भूमिका में नजर आए। 

उन्होंने विद्यार्थियों पर कई विषयांकित सवाल दागा और उनके जवाब से संतुष्ट दिखे। श्री सिंह भ्रमण के दरम्यान कॉलेज की पहलुओं को गम्भीरता से परखा और मौजूद विद्यार्थियों की मानसिक दक्षता का परीक्षण किया। 

उन्होंने इस अवसर पर कहा कि तकनीकी शिक्षा आपके जीवन की दिशा और दशा तय करेगी। चार कक्षा के लिए चार साल अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसका सदुपयोग कर अपना जीवन सुखमय बनाने के साथ माता - पिता का नाम रौशन करें और बिहार को देश - दुनिया में शिखर पर बिठाएं। श्री सिंह ने व्याख्याताओं को भी संदेश देते हुए कहा कि निष्ठा के साथ विद्यार्थियों को पढ़ाएं और समय - सीमा के भीतर पाठ्यक्रम पूरा कर उन्हें अच्छे परिणाम के लिए प्रेरित करें। डीएम इस दरम्यान तकनीकी विद्यार्थियों से सीधा संवाद कर उनका मनोबल बढाया। 

उन्होंने उन्हें निराशा से दूर रहने का संदेश देते हुए कहा कि लक्ष्य हासिल करने के लिए आप सभी को हिंदी की तरह अंग्रेजी बोलना , लिखना और पढ़ना आना चाहिए। श्री सिंह ने इस अवसर पर व्याख्याताओं को विशेष सत्र चलाए जाने का निर्देश देते हुए कहा कि सामान्य ज्ञान को भी खास तरजीह दिया जाना जरूरी है। 
     
डीएम ने कहा कि वर्त्तमान समय प्रतियोगिता का युग है। इसके लिए नियमित पढ़ाई करनी होगी। बोलने का स्किल सुधारना होगा। व्याख्याताओं का सम्मान करने के साथ अनुशासन में रहना होगा। पुराने अध्याय के साथ पढ़ाई का सतत रिवीजन करें। डायग्राम और ग्राफ के जरिए ज्ञान बढ़ाएं। आज के होम वर्क को आज ही पूरा कर लें। इससे आप तरोताजा बने रहेंगे। उन्होंने इस दरम्यान पाठ्यक्रम से सम्बंधित महत्वपूर्ण पुस्तकों को पूरी चेष्टा के साथ पढ़ने का संदेश दिया।
     
जिलाधिकारी ने गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज के प्राचार्य को स्मार्ट क्लास बनाने की सलाह देते हुए कहा कि अत्याधुनिक तकनीकी शिक्षा के लिए यह अनिवार्य हो गया है। उन्होंने मौके पर साढ़े सात एकड़ भूखंड पर खड़े इस इंजीनियरिंग कॉलेज को और विस्तार दिए जाने के साथ आधारभूत संरचनाओं में वृद्धि के लिए पांच एकड़ अतिरिक्त भूखंड दिए जाने का ऐलान किया।
      
उन्होंने अंत में कहा कि जमुई पढ़ेगा तभी तेजी से विकास करेगा। यहां प्रतिभा के भरे रहने की बात बताते हुए कहा कि इसे सिर्फ निखारने की जरूरत है , जिसकी जिम्मेदारी व्याख्याताओं की है। उन्होंने विद्यार्थियों के स्वर्णिम भविष्य की कामना करते हुए उन्हें मंगल आशीर्वाद दिया। डीएम ने कॉलेज की आबोहवा के लिए यहां वृक्षारोपण किया और महाविद्यालय परिवार को भी पौधारोपण करने का संदेश दिया।
        
प्राचार्य डॉ. विमल कुमार ने जिलाधिकारी का गर्मजोशी से स्वागत करते हुए कहा कि इस इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना 2018 में की गई है। आर्यभट्ट ज्ञान यूनिवर्सिटी से संबद्ध इस तकनीकी शिक्षण संस्थान में सिविल , इलेक्ट्रिकल , मैकेनिकल , कम्प्यूटर आदि विधाओं में पढ़ाई होती है। डॉ. कुमार ने आगे कहा कि विद्वान व्याख्याता अध्ययनरत विद्यार्थियों की प्रतिभा को निखारने और तराशने में शासन की मंशा के अनुरूप लगे हुए हैं। उन्होंने जिलाधिकारी के आगमन पर हर्ष प्रकट करते हुए उनके प्रति आभार जताया।

डीसीएलआर मो. शिवगतुल्लाह , कॉलेज के कई व्याख्याता तथा भारी संख्या में विद्यार्थियों ने जिलाधिकारी के कार्यक्रम में हिस्सा लिया और उनके संदेशों को आत्मसात किया। कार्यक्रम ज्ञानवर्धन के साथ क्षमतावर्धन वातावरण में संपन्न हो गया।

Post Top Ad