Breaking News

जमुई : साइकिल यात्रा विचार मंच ने लठाने गांव में किया पौधरोपण

जमुई (Jamui), 5 सितंबर : साईकिल यात्रा एक विचार मंच के 12 सदस्यों के साथ 348वीं यात्रा जमुई ब्लॉक परिसर से निकल कर कचहरी चौक होते हुए लठाने ग्राम तक तय की गई। ग्रामीणों के निजी भूमि पर लकड़ी और फलदार पौधों का पौधारोपण हुआ और घेरा बंदी किया गया। मंच के सदस्यों ने पर्यावरण जागरूकता अभियान को लगातार जारी रखा।

मंच के सदस्यों ने कहा कि वृक्ष वातावरण को शुद्ध व स्वच्छ बनाते हैं। वृक्षारोपण का शाब्दिक अर्थ है वृक्ष लगाना और उनका प्रायोजन करना। प्रकृति के संतुलन को बनाए रखना। मानव के जीवन को सुखी, समृद्ध, संतुलित बनाए रखने के लिए वृक्षारोपण अत्यधिक आवश्यक है। मानव सभ्यता का उदय और प्रथम आश्रय प्रकृति और वन ही रहे हैं। मानव को शुरूआत से प्रकृति से जो कुछ मिल रहा है उसकी निरंतर प्राप्ति के लिए वृक्षारोपण अत्यावश्यक है।
वृक्ष हमें बिना किसी भेदभाव के सभी प्रकार की सुविधाएँ, जैसे - खाने के लिए फल, फूल, जलाने के लिए इंधन, बीमारियों के इलाज के लिए औषधियाँ प्रदान करते हैं। वृक्ष हमारे जीवन का आधार है, क्योंकि यह प्राणवायु ऑक्सीजन गैस प्रवाहित करते हैं, जिसके कारण सभी मनुष्य और जीव-जंतुओं का जीवन संभव हो पाता है।
सदस्य शिवम पांडेय ने कहा - 
हमें वृक्ष के महत्व को समझना चाहिए और वृक्षारोपण करना चाहिए। वृक्षारोपण करना एक व्यक्ति या संस्था या सरकार का कर्तव्य नहीं है, बल्कि संपूर्ण राष्ट्र का कर्तव्य है। प्रत्येक व्यक्ति को अपना कर्तव्य समझना चाहिए और कम से कम अपने जीवन में एक वृक्ष अवश्य लगाकर बड़ा करना चाहिए। तभी हम वृक्ष द्वारा किए गए उपकार का मूल्य चुका सकते हैं तथा आने वाली पीढ़ी का जीवन बचा सकते हैं।

इस मौके पर साइकिल यात्रा के सदस्य आकाश कुमार ठाकुर, हरेराम कुमार सिंह, रणधीर कुमार, विनय कुमार तांती, सिंटू कुमार, अजीत कुमार, विशाल कुमार, शिवम पांडेय, बंटी कुमार, मनीष कुमार, प्रवेश कुमार, विपिन कुमार, ग्रामीण अरुण रावत, गोपाल यादव, रंजीत यादव, विक्की, नितीश, राहुल, रोशन व अन्य ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया।