Breaking News

बिहार और बिहारियों के कल्याण की राजनीति करेगा लोजपा (रामविलास) : देवजानी मित्रा

पटना (Patna), 27 जुलाई : लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) की बिहार प्रदेश की नवनियुक्त प्रवक्ता फैशन वर्ल्ड की जानी मानी हस्ती देवजानी मित्रा ने कहा कि लोजपा रामविलास बिहार और बिहारियों के कल्याण की राजनीति करेगा। भूख, गरीबी, अत्याचार, सड़क, बिजली, पानी, स्वास्थ्य, शिक्षा जैसी बुनियादी समस्याओं को ही पार्टी ने अपना मुख्य मुद्दा बनाया है।

प्रदेश प्रवक्ता बनाए जाने के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए देवजानी मित्रा ने कहा कि यह भ्रम फैलाया जा रहा है कि लोजपा रामविलास एनडीए का हिस्सा है। जबकि ऐसी कोई बात नहीं है। देश की महामहिम राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू समाज के वंचित समाज से आती हैं। आदिवासी समाज से आज तक देश के राष्ट्रपति के पद पर कोई व्यक्ति नहीं बैठा था। इस कारण से लोजपा रामविलास ने उनका समर्थन किया।

उन्होंने कहा कि बिहार में किसी भी दल के साथ उनकी पार्टी का कोई गठबंधन नहीं है। पार्टी दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष व जमुई के लोकप्रिय सांसद चिराग पासवान के नेतृत्व में पूरे बिहार में 'बिहार फर्स्ट, बिहारी फर्स्ट' अभियान को चला रही है। पार्टी का मकसद खुद के पैरों पर खड़ा होना है। अगड़ा, पिछड़ा, दलित, अल्पसंख्यक सभी वर्गों को एक मंच पर लाकर बिहार के विकास की नई गाथा रचना है।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि पार्टी ने उन्हें प्रदेश प्रवक्ता के रूप में एक महत्वपूर्ण जिम्मेवारी दी है उन्होंने बिहार के ग्रामीण इलाकों में और खासकर महिलाओं के बीच में कई वर्षों तक कार्य किया है, जिसका फायदा अब उन्हें मिलेगा।

उन्होंने कहा कि नारी सशक्तिकरण सिर्फ कागजों पर नारों में या टेलीविजन डिबेट में नहीं हो सकता इसके लिए सब को एक साथ मिलकर महिलाओं को सशक्त करना होगा सभी क्षेत्रों में बराबरी का अधिकार देना होगा।

उन्होंने कहा कि प्रदेश प्रवक्ता के रूप में उनकी जिम्मेवारी होगी कि पार्टी की नीतियों पार्टी की विचारधारा को मीडिया के माध्यम से आम जनमानस के बीच लेकर जाया जाए, जहां किसी के साथ कोई अन्याय शोषण हो अत्याचार हो उसके खिलाफ सशक्त तरीके से आवाज उठाई जाए।

प्रदेश प्रवक्ता जैसी महत्वपूर्ण जिम्मेवारी मिलने पर उन्होंने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राष्ट्रीय अध्यक्ष और तमाम पदाधिकारियों को धन्यवाद देते हुए कहा कि लोजपा रामविलास एक परिवार है यहां सब को उचित मान-सम्मान मिलता है।