Breaking News

गिद्धौर : कोरोना जांच में लापरवाही का मामला, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के वेतन पर रोक

गिद्धौर/जमुई (Gidhaur/Jamui), 29 दिसंबर : कोरोना संक्रमण के तीसरे लहर और ओमिक्रोन वेरिएंट के बढ़ते खतरे से बचाव के मद्देनजर शासन-प्रशासन अलर्ट मोड पर है। लेकिन जमुई का स्वास्थ्य विभाग इसे लेकर अब भी लापरवाह है। स्वास्थ्य विभाग के कई चिकित्सा अधिकारियों की कोरोना टेस्टिंग में लापरवाही ऑन-रिकॉर्ड सामने आ रही है।
जहां पड़ोसी जिले मुंगेर में एक साथ 11 कोरोना संक्रमित मिलने से कोरोना संक्रमण के फैलने का खतरा बढ़ गया है, वहीं जमुई जिलान्तर्गत पांच प्रखंडों में कोरोना संक्रमण जांच में लापरवाही बरतने की बात सामने आ रही है।

इन पांच प्रखंडों में गिद्धौर प्रखंड के नाम भी शामिल है। जहां एंटीजन टेस्टिंग 36% एवं आरटीपीसीआर टेस्टिंग 50% का आंकड़ा बताया गया है। यह आंकड़े 25 दिसंबर को हुए जांच की समीक्षा में सामने आई है।

ऐसे में जमुई डीएम अवनीश कुमार सिंह ने दिग्विजय सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गिद्धौर की प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. अजिमा निशात के वेतन पर रोक लगा दी है।

इनके अलावा जिन चिकित्सा पदाधिकारियों के वेतन पर रोक लगी है उनमें सिकंदरा के डॉ. खुस्तर आलम, खैरा के डॉ. अमित रंजन, चकाई के डॉ. विशंभर कुमार राय एवं बरहट के डॉ. सुशील कुमार के नाम शामिल हैं।